बहूरानी के मायके में चुदाई-3

हसीनाओं की ये भोली अदाएं ही तो चुदाई का आनन्द दोगुना कर देतीं हैं; इनका ये रोना धोना, नखरे कर कर के चुदना, एक प्रकार का कॉम्प्लीमेंट, उत्साहवर्धक ही है हम चोदने वालों के लिये.

बहूरानी के मायके में चुदाई-2

बहू के मायके में मैं अपनी बहू को बंजारन के लिबास में देख कर उसकी चुदाई के लिए बेचैन हो रहा था, बहू भी मेरी लालसा को जानती थी और वो भी यही चाहती थी. हमारी प्यास कैसे बुझी?

बहूरानी के मायके में चुदाई-1

मैं अपनी पूत्रवधू को लेकर उसके चचेरे भाई की शादी में गया. अब शादी में तो रंग बिरंगी तितलियाँ आई ही होती हैं, मैं चक्षु चोदन कर रहा था कि मेरी बहू बंजारन लिबास में मेरे पास आई.

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-4

मैंने कहा- पापा, खुश करते हैं, उनके प्यार में कोई कमी नहीं है, उन्हें काम की टेंशन है तो हफ्ते में एक दो बार ही करते हैं, पर मेरी ही भूख ज़्यादा है, मुझे तो हर रोज़ चाहिए, इसलिए मुझे हर वक्त सेक्स की चाहत रहती है।

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-3

मैंने नीचे पेंटी नहीं पहनी थी, तो साड़ी ऊपर उठाने से मैं उनके सामने नंगी हो गई। मेरी नंगी चूत को देख कर ससुर जी खिल गए- वाह बहू, चूत को तो बहुत चिकना कर रखा है!

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-2

एक दिन मैंने अपने चाचा ससुर को हमारी कामवाली को चोदते देखा, चचा का लंड देखा तो मेरे तनबदन में वासना भड़क गयी. मुझे चाचा ससुर का लंड अपनी चूत में लेने की इच्छा होने लगी.

कमसिन लड़की की मोटे लंड की चाहत-3

जैसे ही मैं सामने घूमी तो एकदम से लालजी मुझे देखता ही रह गया. मैं ब्लाउज और पेटीकोट में थी. मेरा पूरा नंगा पेट, खुली नाभि और ब्लाउज में उभरे हुए चूचे देख कर कोई भी पागल हो जाता.

अधूरी ख्वाहिशें-2

हमारे समाज ने सेक्स को टैबू बनाया हुआ है, सौ में से नब्बे लोग इन समाजों में यौनकुंठित और दुखी ही हैं। जबकि पश्चिमी सभ्यता में यह रोजमर्रा का आम व्यवहार है और वे सेक्स को खुल कर जीते हैं और हमारे मुकाबले वे ज्यादा खुश और खुशहाल हैं।

पुत्र वधू की सुहागरात-2

पूजा बेटी, जिस चीज़ के लिये तुम परेशान हो, वही कमी मुझे भी खलती है. अगर तुम चाहती हो कि घर इज़्ज़त बाहर ना लुटे और तुम्हारी जरूरत घर में ही पूरी हो तो हम दोनों ससुर बहू एक दूसरे के तन की भूख को मिटा सकते हैं अगर तुम्हें कोई ऐतराज़ ना हो…

पुत्र वधू की सुहागरात-1

पत्नी की मृत्यु के बाद घर संभालने के लिए मैंने अपने बेटे की शादी की और बेटी जैसी बहू को घर ले आया. लेकिन एक दिन जब मैं दफ्तर से जल्दी लौट आया तो मैंने घर में क्या देखा?

मामी की चुदाई बार बार लगातार

मेरे मामा मामी मेरे घर आये थे, रात को मामी दूसरे बेड पे बिल्कुल मेरे सामने सोई, उनकी गांड और बूब्ज़ देख कर मेरा लंड बिगड़ने लगा. मैं मामी के बदन को छूने लगा. उसके बाद क्या हुआ? पढ़ें मेरी मामी की चुत चुदाई कहानी में!

जमाई से चूत गांड चुदाई

मेरी बेटी की शादी हुई, बेटी ने मुझे बताया कि जमाई रात भांग खाकर बहुत परेशान करते हैं. मैं समझ गयी कि बेटी के कहने का क्या मतलब है। यह सुनकर मुझे भी जमाई जी से मजे लेने का मन करने लगा।

एक रात सासू माँ के साथ

एक रात मुझे सासू मम्मी के साथ सोने का मौक़ा मिला. मैं अपनी शादी के बाद से ही पसंद करता हूँ. मेरी किस्मत में मेरे द्वारा मेरी सासू की चुदाई लिखी हुई थी तो उसके बारे में ही मैं आपको बताने जा रहा हूँ.

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-3

मेरे जीजा के भाई ने मुझे नंगी कर लिया और मेरी चूत में उंगली घुसा कर अंदर बाहर करने लगा. फिर मेरी टांगों को फैलाकर मेरी चूत में पूरी जीभ को घुसा दिया. फिर बोले कि लंड मुंह में लो. मेरी पहली चुदाई का मजा लो!

इत्तेफाक से जेठ बहू के तन का मिलन-4

मेरे छोटे भाई की बीवी जैसे मेरे साथ अपनी दूसरी सुहागरात मना रही थी. वो बहुत खुले कर मेरे साथ सेक्स कर रही थी जैसे हम दोनों नवविवाहित पतिपत्नी हों! आप भी हम दोनों जेठ बहू की सेक्सी मस्ती का मजा लें!

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-2

मेरी दीदी का देवर मुझे अपने रूम में लाकर नंगी कर रहा था मेरी चूत चुदाई के लिए… मुझे मजा आ रहा था लेकिन मैं दिखावे के लिए उसका विरोध कर रही थी. मुझे पटा लग चुका था कि आज मुझे मेरी चुत की पहली चुदाई का मजा मिल जाने वाला है.

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-1

मैं तब कुंवारी थी, मेरी बुर सीलबंद थी. मेरी दीदी के देवर ने मुझे नयी ड्रेस दिलाने के बहाने किराये के रूम में ले जाकर चोदना चाहा. दीदी के देवर ने जैसे ही मेरी बुर में लंड घुसाया, मैं चीखी मेरी चीख सुन, उन्हीं के मकान मालिक आ गये और फिर…

बुआ ने मुझे चोदना सिखाया

उन दिनों मैं पढ़ता था, अपने परिवार के साथ गाँव गया था. मेरी छोटी बुआ मुझे नहाने के लिए नदी पर ले जा रही थी, रास्ते में बुआ अपना बदन मेरे से छुआ रही थी तो मुझे अच्छा लगा. फिर नदी पर पहुँच कर बुआ ने क्या किया, पढ़ें मेरी इस हिंदी इन्सेस्ट कहानी में!

मेरे रंगीन समधी जी

शादी लायक मेरी बेटी की शादी के लिए लड़के वाले देखने आये तो इस दौरान मैंने गौर किया कि मेरे होने वाले मेरे समधी मुझे बहुत कातिल निगाह से देख रहे थे। मुझे अजीब सा तो लगा लेकिन कहीं अंतर्मन में कुछ खुशी सी भी हुई. फिर क्या हुआ? पढ़ें मेरी चुत की चुदाई की हिन्दी स्टोरी में!

स्त्री-मन… एक पहेली-6

मेरी साली की जवान बेटी की कामुकता से भरपूर इस सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि यौन पूर्व कामक्रीड़ा के चलते उसकी कामवासना पूरे चरम पर थी, उसने मेरे होंठों पर एक चुम्बन जड़ा और अपने दोनों पैरों से मेरी कमर पर कैंची सी मार ली और लगी मेरी कमर अपनी ओर खींचने.