सगे भाई ने की जम कर चुदाई-3

(Sage Bhai Ne Ki Jam Kar Chut Chudai-3)

This story is part of a series:

सबसे पहले आप सबके अपूर्व प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद।

मैं पिछले दिनों कुछ ज्यादा व्यस्त थी इसलिए कहानी का अगला भाग भेजने में कुछ देर हो गई।

आप जानते ही हैं मेर बॉस भी ना !!!

राहुल से चुदवाने में मुझे बहुत मज़ा आया। मैं अभी भी नंगी लेटी थी अपने बिस्तर पर। अपने हाथों से राहुल का वीर्य अपने स्तनों पर मल रही थी।

राहुल मेरी चूत को फ़िर से अपने हाथ से मसल रहा था। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। तभी दरवाज़े पर घण्टी बजी– टिंग टोंग ! टिंग टोंग !

मैं समझ गई कि मेरा बॉस होगा। राहुल गया देखने के लिए !

उसने देखा- मेरा बॉस बाहर खड़ा था। उसने मुझे आकर बताया- हो जा तैयार एक बार और चुदवाने के लिए ! तेरा बॉस आ गया।

मैंने राहुल को बोला- तू प्लीज़ ! थोड़ी देर के लिए रसोई में चला जा !

फ़िर मैंने तौलिया लपेट कर दरवाज़ा खोला। मेरा कमीना बॉस मुझे देख कर मुस्कुरा रहा था।

उसने अन्दर घुसते ही मुझे गोद में उठा लिया और कहा- आज बहुत चुदवाने का मन है ना तुझे, बहुत तड़पाया है मुझे तूने… .. तुझे चोदने के बाद तो मुझे किसी और को चोदने में मजा ही नहीं आता… ..

मैंने फ़िर अपना नाटक दिखाना शुरू किया .. क्यूँकि मेरी चूत की प्यास मेरे भाई ने बुझा दी थी…

मैंने कहा- नहीं ! मुझे नहीं चुदवाना…

उसने मुझे बेड पे पटक दिया और मेरे ऊपर लेट गया मेरे दोनों हाथों को अपने दोनों हाथों से कस के पकड़ लिया ताकि मैं हिल ना सकूँ और फ़िर मुझे किस करने लगा… .

वो मेरी जीभ को चूसता जा रहा था…

फ़िर थोड़ी देर बाद कहा- साली क्यूँ नहीं चुदवाएगी अब मुझसे…

मैंने नाटक करते हुए कहा- आज कल आप मेरे वेतन बढ़ाने पे ध्यान नहीं दे रहे हैं… .

वो समझ गया .. उसने फ़िर बताना शुरू किया कि आज कल बहुत कुछ बदल गया है ऊपर के प्रबंधन में… मैं भेजता हूँ तो फ़िर मेरे बॉस फैसला करते हैं कि कितनी वृद्धि देनी है… ..

फ़िर मैंने कहा- तो फ़िर मैं तुम्हें क्यूँ दूँ अपनी चूत ! तुम्हारे बॉस को ना दूँ…?

फ़िर उसने कहा- ठीक है उसे भी देना, मगर मैंने कितना कुछ किया तुम्हारे लिए..

मैंने कहा- जब किया तब मुझे जम कर पेला भी तुमने… मुझे याद है तू हर दूसरे दिन मुझे चोदता था… कभी कभी तो मेरे मासिक के बावजूद… .. अभी मुझे क्या मिलेगा तुमसे चुदवा कर…

फ़िर इस पे उसने कहा- रूबी माय डार्लिंग ! तुम्हें जितने की वृद्धि चाहिए उतनी तुम मेरे वेतन से ले लेना बाबा !… आगे मुझे कभी ऐसा मत कहना… अगर मुझे तुम्हारी चूत नहीं मिली तो मैं पागल हो जाऊंगा… !

फ़िर मैंने सोचा- चलो अब तो मैं बहुत कुछ ले सकती हूँ इससे ..

फ़िर उसके बालों को पकड़ कर मैंने अपने मुंह की तरफ़ खींचा और चूसने लगी उसके होठों को ..

वो समझ गया कि मैं मान गई हूँ… उसने तुंरत खड़ा होकर मेरा तौलिया खींच दिया।

मैं पूरी नंगी लेटी थी बेड पर…

फ़िर वो जल्दी जल्दी से अपने कपड़े उतार कर पूरा नंगा खड़ा हो गया मेरे सामने… फ़िर अपने लंड की तरफ़ इशारा किया।

मैंने भी बेड से उठ कर उसका लंड अपने हाथों में लिया और हिलाने लगी। फ़िर मैं झुक कर उसके लंड को अपने होठों पे रगड़ने लगी, फ़िर उसके सुपाड़े को अपने जीभ से चाटने लगी।

वो सीत्कार कर रहा था और मेरे बालों को सहला रहा था…

मेरा एक हाथ उसके लण्ड पे था दूसरे से मैं उसकी गांड को सहला रही थी… वो पूरी तरह मस्त हो चुका था…

फ़िर मैंने उसका चूसना शुरू किया… म्म्म्म्म्म्म म्च उम्म्म्मा मैं चूसती चली गई… मैं उसका लंड हिला हिला कर चूस रही थी…

इतने में मैंने देखा .. मेरा भाई मेरे बेडरूम के दरवाजे पे नंगा खड़ा है और मुझे देख रहा है… .. मेरे बॉस दरवाजे की तरफ़ पीठ करके खड़े थे, इसलिए उन्हें कुछ दिख नहीं रहा था।

मैंने राहुल को इशारा किया नहीं आने का, मगर वो नहीं माना और अंदर आ गया। मैं रुक गई, फ़िर मेरा बॉस उसे नंगा देख कर दंग रह गया…

मैंने फ़िर बॉस को कहा कोई बात नहीं .. और वापस उसका लंड हाथ में पकड़ कर हिलाते हुए चूसने लगी। मैं जमीन पे घुटनों के बल झुकी थी और बॉस का लंड चूस रही थी…

इतने में राहुल ने मेरी चूत मसलनी शुरू की…

हम सब चुपचाप अपने अपने काम में मस्त थे… फ़िर वो झुक कर मेरी चूत चाटने लगा… ..वो एक साथ तीन तीन उँगलियाँ मेरी चूत में डालता और फ़िर चाटता रहता…

मैं भी तेजी से बॉस के लंड को चूस रही थी… राहुल ने मुझे पूरी तरह से मस्त कर दिया था।

अब मेरी बुर तरस रही थी चुदाने के लिए… मैं मन ही मन खुश हो रही थी .. की दो दो चुदाई एक साथ होगी आज मेरी…

फ़िर मेरे बॉस ने मेरे बालों को पकड़ कर मुझे ऊपर खींचा और मुझे बेड पे हाथ रख कर झुका दिया, फ़िर पीछे से मेरी चूत मसलने लगे।

मेरी चूत को राहुल ने पहले बहुत गीला कर दिया था, उससे रस टपक रहा था…

मेरे बॉस ने पीछे से ही कुतिया स्टाइल में अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया… वो इतनी गीली हो गई थी की लंड सरसराते हुए अंदर चला गया मैं थोड़ी चिंहुक उठी क्यूँ कि मेरे बॉस का लंड बहुत मोटा है।

… आ आ अ आह ह

फ़िर वो धीरे धीरे मुझे पेलने लगा…

मेरे दोनों स्तन लटक रहे थे और हर धक्के पे हिल रहे थे…

मैं सिसकार रही थी… उन्ह हह ह अ आ अह अ आ आ आह मम ममी… अह हह हह

फ़िर राहुल मेरे सामने से आकर बेड पे घुटने के बल खड़ा हो गया और अपने लंड को मेरे मुंह में डाल दिया…

मैं उसका लंड चूसने लगी.. अब एक साथ दो दो मेरी चुदाई कर रहे थे, मुझे बहुत मजा आ रहा था…

मेरे बॉस ने अपनी स्पीड बढ़ाई… कमरे में थप थप की आवाज आने लगी, वो मेरे पीछे से मेरी बुर पेल रहा था…

उसके हर धक्के से राहुल का लंड और अंदर चला जाता था मेरे मुंह में…

फ़िर थोड़ी देर ऐसे ही चोदने के बाद उसने अपना लंड मेरी बुर से बाहर निकाला और मुझे बेड पे लिटा कर मेरी टांगों को फैला दिया और मेरी दोनों टांगों को थोड़ा ऊपर उठा कर मेरे दोनों हाथों से पकड़ने को कहा।

मैंने ऐसे ही किया…

फ़िर उसने सामने से मेरी बुर में अपना लंड डाल दिया… वो चोदने लगा।

मैं मस्त हो गई… ओह हह ह्ह्ह आ अ आ आह आ ओह ह्ह्ह.. चोद… आ जा चोद दे… आ आह

मेरे मुंह से ख़ुद ब ख़ुद ये सब आवाजें निकलने लगी।

फ़िर मैंने एक हाथ से राहुल का लंड पकड़ा और हिलाने लगी…

वो मेरे स्तन दबा रहा था… अ आ आह… मेरा बॉस मुझे चोदे जा रहा था… उसकी स्पीड बढ़ गई।

मेरी बुर से पूरा रस निकल चुका था… . फच फच की आवाज़ आने लगी थी।

अ आ अआः चोदो माँ अआः… राहुल… .

मेरा भाई भी मस्त हो गया था… ..

वो देख रहा था कि कैसे उसकी बहन मस्त होकर चुदवा रही है अपने बॉस से और फ़िर उसका लंड भी हिला रही है।

मेरे बॉस का रस निकलने वाला था… उसने लंड बाहर निकाल कर उसे मेरे दोनों बूब्स पे गिरा दिया…।

मेरे हाथो में अभी भी राहुल का लंड था…

वो अभी भी पूरा तना हुआ था और अपनी रूबी दीदी की बुर में जाने को बेताब था… .. इतने में मेरा बॉस खड़ा होकर अपने कपड़े पहनने लगा… मैं बेड पे ही लेटी थी… उसने कपड़े पहन कर कहा- रूबी कल दफ्तर में मिलते हैं जानम…

और फ़िर राहुल से कहा- ज़म के और जोर से चोदना, साली बहुत गर्म है… वो इतना बोल कर चला गया।

फ़िर राहुल ने मुझे चूमना शुरू किया… वो अपनी दीदी के होठों को चूस रहा था… उस की जीभ को चूस रहा था।

थोड़ी देर बाद उसने कहा- अब रहा नहीं जाता… !

और फ़िर उसने नीचे जाकर मेरी बुर की पेलाई शुरू कर दी… . मेरे बॉस का वीर्य जो कि मेरे स्तनों पे अभी भी था .. वो उसके ऊपर से मेरे बूब्स को दबा रहा था… उसके हाथों में भी पूरा रस लग चुका था।

वो मेरे चूचुक मसल रहा था… फिर उसने एक ही झटके में पूरा लंड अंदर डाल दिया और चोदने लगा… ..वो पूरी तरह मेरे ऊपर लेट कर मुझे चोद रहा था…

उसकी छाती मेरे दोनों स्तनों को दबा रही थी और वहाँ पे बॉस-रस होने की वजह से चिपक भी रही थी…

वहाँ से अभी फच फच फच की आवाज आ रही थी… ..वो स्पीड से चोदता जा रहा था… फ़िर थोड़ी देर में वो झड़ गया .. मगर इस बार उसने अपना सारा रस मेरे बुर में ही डाल दिया… ..

मैं घबरा गई… मैंने उसे जबरदस्ती उठाया अपने ऊपर से… लेकिन तब तक मेरी बुर के अंदर मेरे भाई का सारा वीर्य जा चुका था…

मैंने उससे कहा- अगर मैं गर्भवती हो गई तो…?

फ़िर मैंने उसे कहा- जल्दी से कपड़े पहन कर दवाई की दुकान से आई-पिल लेकर आ…

वो आई पिल लेन चला गया और मैंने नहाने चली गई…

अगले हिस्से में पढ़िये- कैसे राहुल के बॉस ने मुझे चोदा…? बिल्कुल अलग ढंग से !!!
आपकी रूबी
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top