कुंवारी चूत में लंड घुसा कर मौसेरी बहन की चुदाई-2

(Kunvari Choot Mein Lund Ghsa Kar Mauseri Behan Ki Chudai- Part 2)

कुंवारी चूत में लंड घुसा कर मौसेरी बहन की चुदाई-1

अब तक आपने इस बहन की चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मेरी मौसी की लड़की मुझे एक बार चुदने के बाद दूसरी बार चुदने की तैयारी कर रही थी।
अब आगे..

वो उस वक़्त एक पेंट और शर्ट (गर्ल्स वाली नाइट ड्रेस) पहने हुई थी। मैं उसकी पीठ सहला कर उसके माथे पे किस कर रहा था। पीठ पर हाथ फेरने से मुझे महसूस हुआ कि उसने ब्रा नहीं पहनी है।
मैंने उससे पूछा- ब्रा क्यों नहीं पहनी है?
वो बोली- आप के लिए..
मैंने पूछा- क्यों?
तो वो बोली- मैं जानती थी कि हम आज अकेले रहेंगे और सेक्स करेंगे।
तो मैंने बोला- वेरी स्मार्ट गर्ल।
तान्या- हाँ, आई एम स्मार्ट गर्ल।

फिर मैंने उसके चेहरे को ऊपर करके उसके लिप्स को किस करने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैं एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था। कुछ देर बाद मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल कर मम्मों को खोल दिया। मैं उसके मम्मों को देख कर पागल हो गया।
उसके गोरे बदन पर दो ठोस बॉल और उस पर गुलाबी निप्पल भी बहुत क्यूट लग रहे थे।

मैंने उसे खड़ा किया और उसके दोनों मम्मों को दोनों हाथों से खूब दबाया।
वो बोली- प्लीज़ कल जैसे चूस रहे थे, वैसे ही चूसो ना।

मैंने उसकी शर्ट को बिल्कुल से अलग कर दिया और अब वो सिर्फ़ पेंट में मेरे सामने खड़ी थी। मैंने उसे बांहों में भर लिया और उसके नंगी पीठ को खूब सहलाया। मैं लगातार उसकी गर्दन पे किस कर रहा था और वो मेरे शॉर्ट्स के ऊपर से मेरे लंड को सहला रही थी। इससे मेरा लंड भी बहुत हार्ड हो गया।

फिर मैं उसे छोड़ कर अपनी बनियान, शॉर्ट्स और अंडरवियर उतार के नंगा हो गया। उसने जैसे ही मेरे खड़े लंड को देखा, तुरंत पकड़ लिया।
तान्या बोली- भैया, क्या मस्त लंड है तुम्हारा, कितना मोटा है.. देखने से तो डर लगता है।
मैं- पर कल तो यही तुम्हारी चूत में गया था।
तान्या- इसी लिए इतना दर्द हुआ और बाद में तो इसने बहुत मजा दिया।

मैं- इसको मुँह में लेकर प्यार करो।
वो नीचे बैठ कर लंड चूसने लगी।
मेरी तो हालत खराब हो गई.. अह.. क्या मजा आ रहा था… वो साली लंड को एकदम लॉलिपॉप की तरह चूस रही थी।

कुछ देर बाद मेरे लंड का रस निकलने वाला था तो मैंने लंड उसके मुँह से निकाल लिया और उसके मम्मों को पर सारा रस गिरा दिया।
फिर मैंने उसको बांहों में भर लिया और उसकी पेंट और पेंटी निकाल दी। वो इस वक्त पूरी सेक्स की परी लग रही थी।

आप कल्पना करो कि एक लड़की को नंगी करने का बाद क्या नशा चढ़ता है। सेक्स का नशा शायद दारू के नशा से भी मस्त होता है।

फिर मैंने उसको बिस्तर पर लेटा दिया और बोला- मैं तुम्हारा बेबी हूँ.. मुझे अपना दूध पिलाओ ना!
तान्या मेरी तरफ मुँह करके बोली- ओके माय बेबी.. चलो मुँह खोलो और मेरा दूध पियो।

उसने अपनी एक चुची को एक हाथ से पकड़ कर मेरे मुँह में भर दिया और मैं मज़े से चुची चूसने लगा। साथ ही में एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा। उसकी चूत की रेशमी झांटें मुझे बहुत पसंद आ गई थीं।
कुछ ही देर में उसकी चूत पूरी गीली हो गई थी।

मैंने उसका एक पैर अपनी कमर के ऊपर रख लिया और उसकी चूत को सहलाने लगा, फिर दो उंगलियों से चूत को चोदने लगा।
वो लगातार कामुक सिसकारियाँ भर रही थी और मेरे सर को अपने मम्मों पर दबाने लगी थी।

फिर मैंने उसको पीठ के बल लेटा दिया और उसके मम्मों को प्रेस करके और किस करते हुए नीचे की तरफ आ गया।
वो मेरे बालों में अपनी उंगली फेर रही थी और सिसकारियाँ भर रही थी।
जब मैं उसकी चूत के पास आया, तो पहले उसे एक किस किया और उसके दोनों पैरों को ऊपर करके फैला दिया। उसकी चूत के लिप्स फ़ैल गए और चूत के अन्दर की लालामी दिखने लगी। किसी चूत को देखने का ये मेरा पहला अनुभव था। इससे पहले मैंने सिर्फ़ पॉर्न मूवी में ही चूत मम्मे आदि देखे थे।

मैंने उसकी चूत में मुँह रख दिया और भूखे शेर की तरह चूत को चाटने लगा। वो भी पागल हो गई और मेरे सर को अपनी चूत में दबा कर चूत की खाज मिटवाने लगी।
कुछ देर चूत चटवाने के बाद वो अकड़ गई और उसकी चूत से गाढ़ा सफेद पानी निकलने लगा। चूत रस मेरे मुँह से लगा तो मैं रस सूंघने लगा।

जब मैंने अपना मुँह उठा कर देखा तो चूत झलाझल बह रही थी, मैं समझ गया कि वो झड़ गई है।

मैं तुरंत उसकी चूत को चाटने लगा। उसका रस नमकीन और मस्त स्वाद का था। मैंने ये चीज़ पॉर्न मूवी में देखी तो थी लेकिन ये नहीं मालूम था कि चूत के पानी का स्वाद कैसा होता है।
कुछ देर में वो ढीली पड़ गई।

मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?
तो वो कुछ नहीं बोली और उसने बांहें फैला दीं।
मैं उसके ऊपर लेट गया, वो मुझे किस करने लगी और उसने कहा- आई लव यू।
मैंने भी चुदास के नशे में उसको ‘आई लव यू टू..’ कह दिया।

फिर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसको किस करके उसके मम्मों को चूसने लगा। साथ ही मैं अपना मोटा लंड उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा।
वो गर्म हो गई और बोली- प्लीज़ अब डाल दो अन्दर.. मुझे और ना सताओ।
मैं उसके ऊपर से उठ गया और दोनों पैरों को फैला कर बीच में बैठ गया। उसको दोनों पैरों को ऊपर उठाने को कहा और उसने झट से पैर उठा लिए।

अब मैंने उसकी गीली चूत में अपना लोहे जैसे तना हुआ लंड अपने हाथ में पकड़ कर उसकी चूत में रगड़ने लगा। मैं उसको पूरा तड़पाना चाहता था।

यही हुआ.. कुछ ही पलों में वो तड़पती हुई बोली- कितना तरसाते हो.. अब घुसा दो प्लीज़।
मैंने लंड के टोपा चूत के अन्दर घुसा दिया। उसके मुँह से लंबी सिसकारी निकली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊऊऊऊ..

मैं धीरे-धीरे पेलता गया और उसकी सिसकारियाँ बढ़ती गईं। जब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया, तब उसकी चूत का हाल देखने लायक था। उसकी चूत एक मछली के मुँह जैसे हो गई थी और लग रहा था जैसे कोई सांप उसके मुँह में घुसा हुआ है। मैं लंड को धीरे-धीरे अन्दर-बाहर कर रहा था।

तान्या बोली- क्या कर रहे हो, ज़रा जोर से करो ना, बहुत मजा आ रहा है.. और जोर से चोदो मेरी जान!
मैं उसके ऊपर पूरा चढ़ गया और अपनी स्पीड थोड़ी तेज़ कर दी.. क्योंकि मैं उसको देर तक चोदना चाहता था।

मैंने धीरे-धीरे स्पीड को बढ़ाया, मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर-बाहर हो रहा था, ‘छप.. छप..’ की आवाज़ भी हो रही थी और दोनों की साँसें टकरा रही थीं।
बहन की चुदाई की यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

वो दोनों हाथों से मेरी पीठ और गांड सहला रही थी। मैं दनादन धक्के पर धक्का लगा रहा था।
बीच में वो फिर से झड़ गई, पर मेरा अभी भी निकला नहीं था।

फिर हम दोनों नीचे ज़मीन पर आमने-सामने खड़े हो गए, मैंने उसके एक पैर को उठा कर बिस्तर पर रख दिया, फिर सामने से मैंने अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया और इसमें मुझे बहुत मजा आया।

अब मैंने उसको चोदना स्टार्ट किया, अगले 5 मिनट में मेरा माल भी निकलने वाला था।

मैंने पूछा- कहाँ निकालूँ?
वो बोली- अन्दर छोड़ दो।
मैं बोला- प्राब्लम हो गया तो?
फिर वो बोली- नहीं, मेरा पीरियड शुरू होने वाला है।

मैं उसकी चूत में ही झड़ गया और बिस्तर पर सीधा लेट गया, फिर तान्या भी मेरे ऊपर लेट गई। मैं उसको किस कर रहा था और उसकी पीठ और गांड सहला रहा था।
कुछ देर बाद वो मेरे बगल में लेट कर मेरे लंड को हिलाने लगी। मैं उसके मम्मों को पीने लगा और चूत को छेड़ने लगा।

कुछ ही देर में हम दोनों फिर गर्म हो गए, मेरा लंड सख्ती से खड़ा हो गया था, अब वो मेरे लंड को किस करके मेरे लंड पर बैठ गई और अपनी गांड को ऊपर-नीचे करने लगी।
उसके दोनों मम्मे हवा में हिलने लगे, बड़ा मस्त लग रहा था।

मैं आप लोगों को बता नहीं सकता, जिसने ऐसी मस्त चूत चोदी होगी, केवल वो ही इस मजे को समझ सकता है। सच में कितना मजा आता है, जब कोई लड़की लंड के ऊपर बैठ कर चुदवाती है।

फिर मैंने उसको उल्टा बैठने को कहा, तो वो उठ कर मेरे मुँह की तरफ पीठ करके लंड के ऊपर बैठ कर गांड को ऊपर-नीचे करते हुए चोदने लगी।

मैंने उसके दोनों हाथ को पकड़ कर पीठ के बल मेरे ऊपर लेटा दिया और उसके दोनों मम्मों को दबाने लगा। उसकी चूत में लंड से दबा कर चोदने लगा। वो झड़ने वाली थी और इसलिए पलट कर फिर लंड के ऊपर बैठ के मेरे ऊपर लेट गई और जोर-जोर से अपनी चूत में लंड अन्दर-बाहर करने लगी।
अंततः जब वो झड़ी तो मुझे जोर से पकड़ लिया, उसकी चूत में से गरम-गरम रस निकल रहा था, जो मेरा लंड में फील हो रहा था।

इधर मेरा भी झड़ने वाला था, फिर मैं उसको अपनी नीचे लेटा कर चोदने लगा। कुछ देर बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ गया।

झड़ने के बाद मैं उसके ऊपर लेट गया। हम दोनों ही हाँफ रहे थे जैसे कि 100 मीटर्स की रेस दौड़ कर आए हों.. हमें बहुत मजा आया।

फिर हम हर रोज दिन और रात में दो बार सेक्स करने लगे थे। ये मेरी बहन की चुदाई की सच्ची कहानी है, इसमें एक शब्द भी काल्पनिक नहीं है।
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! कुंवारी चूत में लंड घुसा कर मौसेरी बहन की चुदाई-2