जिस्मानी रिश्तों की चाह-69

(Jismani Rishton Ki Chah- Part 69)

This story is part of a series:

कमरे में हम चारों चुदाई का खेल खेल रहे थे।

हनी की मादक आवाजें आने लगीं और उसने अपने दोनों हाथ फरहान के सर पर रखे और अपने बूब्स पर दबाने लगी।
मैंने उनसे नज़रें हटाईं और आपी को देखा तो आपी ने अपने बूब्स की तरफ इशारा किया और चूसने को कहा।

मैंने आपी का इशारा समझा और आपी के बूब्स को हाथ में पकड़ कर मुँह में कभी एक निप्पल को चूसता तो कभी दूसरे को चूसता।
आपी पूरे मज़े में आ रही थीं और मादक आवाज़ें निकाल रही थीं।

मैं कुछ मिनट आपी के बूब्स चूसता रहा फिर मैंने अपने मुँह उठाया और आपी की चूत पर चला गया। अब मैंने अपना मुँह आपी की टाँगों के अन्दर रख कर आपी की चूत को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा।

मेरी ज़ुबान चूत के अन्दर गई.. तो आपी ने ‘आआहह.. आआअहह..’ की तेज आवाज़ निकाली.. जिससे फरहान और हनी हमारी तरफ देखने लगे।

फरहान ने मुझे देखा तो वो भी उठ कर चूत पर आ गया और हनी को कहने लगा- अब तुझे मज़ा आएगा।
यह कह कर उसने अपना मुँह हनी की चूत पर रख दिया और ज़ुबान फेरने लगा।

हनी ने अपनी चूत पर ज़ुबान का एहसास महसूस करते ही अपने जिस्म को अकड़ाना शुरू कर दिया और टाँगें सिकोड़ लीं.. पर फरहान नहीं हटा और वो चूत को चूसता रहा।

कुछ देर हनी की चूत को चूसने के बाद फरहान ने अपनी ज़ुबान हनी की चूत के अन्दर की.. जिससे हनी की चीख निकली- आआहह..’
तो आपी ने फरहान से कहा- आराम से करो यार..

पर फरहान नहीं हटा और ऐसे ही हनी की चूत को चूसता रहा और हनी आहें भरती रही- आहह आआहह.. आअहह..
इसी के साथ-साथ वो अपने हाथ बिस्तर पर मारती जाती थी।

मैंने भी आपी की चूत को दोबारा चूसने शुरू कर दिया और ज़ुबान अन्दर करके आपी की चूत को चोदने लगा।

आपी मज़े से मेरा सर दबाने लगीं- हमम्म्म.. आआहह.. सगीर.. मेरे सरताज मजा आ गया.. आह्ह..

वो मेरे सर को अपने हाथों से चूत पर दबाने लगीं।

मैंने कोई 5 मिनट ऐसे ही चूत को चूसा और फिर अपना मुँह उठा कर आपी से कहा- आपी मेरे लण्ड को चूसो.. फिर आपकी चुदाई शुरू करनी है।

आपी उठीं और उन्होंने हनी को भी आवाज़ दी और उससे कहा- उठ कर जैसे मैं करती हूँ.. वैसे करो।
मेरा लण्ड आपी ने हाथ में पकड़ा और अपनी ज़ुबान बाहर निकाल कर मेरे लण्ड पर फेरने लगीं।

आपी ने जैसे ही अपनी ज़ुबान मेरे लण्ड पर लगाई.. तो मेरे जिस्म में जैसे करेंट दौड़ गया हो। मैंने एक लंबी सांस ली और सर को पीछे को करके लण्ड चुसवाने लगा।

तभी हनी ने भी फरहान का लण्ड हाथ में पकड़ा और अपनी ज़ुबान उस पर फेरने लगी। फरहान ने भी ‘आहह..’ की आवाज़ के साथ अपने हाथ हनी के सर पर रख दिए और उसके बालों में हाथ फेरने लगा।

मैं देख कर हैरान था कि हनी ये सब कैसे आसानी से करती जा रही है। शायद ये सब आजकल की लण्ड चूसने वाली ब्लू-फिल्मों का असर था।

आपी ने दो मिनट मेरा लण्ड चूसा और फिर लण्ड को मुँह से बाहर निकाल कर बोलीं- सगीर अब रहा नहीं जा रहा.. अब इसे मेरी चूत के अन्दर पेल दो।
मैंने कहा- ठीक..

मैंने आपी को बेड पर लेटा दिया.. लण्ड को हाथ में पकड़ा।
तो आपी बोलीं- सगीर पहले फरहान का लण्ड हनी के अन्दर डलवा दो.. वरना ये खुद उसे बहुत दर्द देगा।

तो मैंने फरहान से कहा- अपना लण्ड आराम से अन्दर डालो.. ज़रा सा भी ज़ोर मत लगाना।
तो उसने कहा- ओके।

उसने हनी को पीछे की तरफ सीधा लेटाकर अपना लण्ड हाथ में पकड़ा और हनी की टाँगें खोल कर उसकी चूत के सुराख पर रख दिया.. पर लण्ड को हाथ से नहीं छोड़ा और हाथ से ही अन्दर हल्का सा दबाया।
अभी लण्ड की टोपी अन्दर नहीं गई थी कि हनी घबरा गई और कहने लगी- आपी मुझे दर्द होगा प्लीज़ ना डलवाओ..

तो मैंने उससे कहा- कुछ नहीं होगा तुम डरो मत..
मैंने फरहान से कहा- थोड़ा और अन्दर करो।

इस दफ़ा फरहान ने हाथ लण्ड पकड़ कर थोड़ा सा ज़ोर लगाया तो लण्ड की टोपी हनी की चूत में चली गई।
अभी टोपी ही अन्दर गई ही थी कि हनी की चीख निकली- आआहह अम्मी.. बाहर निकाल दो प्लीज़..

पर उसने ना तो अपनी टाँगें हिलाईं और ना ही हाथों से फरहान को पीछे किया। उसने बस रोना चालू कर दिया था.. तो आपी ने फरहान से कहा- तुम और अन्दर मत करना.. बस यहीं पर रुक कर आगे-पीछे करो।

फरहान ने वहीं आहिस्ता-आहिस्ता लण्ड को आगे-पीछे करना चालू कर दिया.. पर हनी के मुँह से ‘आहह.. आआहह..’ की आवाज़ आ रही थी।

फरहान वहीं आगे-पीछे हो रहा था तभी आपी ने फरहान से कहा- फरहान अगर आधा करीब अन्दर चला गया हो तो आज के दिन लण्ड इससे ज्यादा अन्दर ना करना.. हनी को टाइम दो.. आज उसका पहला दिन है.. वो घबराई हुई है।

तो फरहान ने कहा- ठीक है आपी.. नहीं करता।
अब आपी ने मुझे हिलाया और बोलीं- सगीर डालो ना अन्दर।
मैंने अपना लण्ड जो कि मैंने पहले ही हाथ में पकड़ा हुआ था, आपी की चूत के सुराख पर रखा और एक ही तेज़ झटके से आपी की चूत के अन्दर कर दिया।

लण्ड आपी की चूत के अन्दर गया.. तो आपी ने आँखें बंद कर लीं और मेरी कमर को पकड़ कर रोक दिया। मैं भी वहीं रुक गया।
आपी बोलीं- सगीर दर्द हो रहा है.. शायद लण्ड सूख गया था।
तो मैंने कहा- आपी, अभी ठीक हो जाएगा।

यह कहते हुए मैंने अपनी कमर को आहिस्ता-आहिस्ता हिलना चालू कर दिया और आराम से आपी की चूत को चोदने लगा।

आपी के मुँह से ‘आआहह आआअहह.. आआहह आअहह..’ की आवाज़ आ रही थी। कुछ मिनट बाद ही आपी ने नीचे से अपनी गाण्ड को हिलाना चालू कर दिया.. तो मैं समझ गया कि आपी का दर्द कम हो गया है।
अब मैंने तेज़ी से अपने लण्ड को आपी की चूत के अन्दर-बाहर करना चालू कर दिया।

आपी भी मेरा साथ दे रही थीं और मज़े से ‘ऊऊओह.. ऊऊहह..’ की आवाज़ें निकाल रही थीं।

मैं ऐसे ही धक्के मारते हुए आपी के ऊपर झुक कर आपी को किस करने लगा। मैंने आपी को 5 मिनट तक इसी पोज़ में चोदा और 5 मिनट बाद लण्ड बाहर निकाल कर खड़ा हो गया।

मैंने आपी को भी बिस्तर से उठा कर खड़ा कर दिया।
आपी बोलीं- क्या हुआ है?
तो मैंने कहा- आपी आज एक न्यू पोज़ ट्राई करते हैं।

मैंने आपी का मुँह अपने मुँह के सामने किया.. आपी की सीधी टांग को ऊपर उठाया और अपनी कमर के साथ रख कर अपने दूसरे हाथ से अपने लण्ड को पकड़ कर आपी की चूत में पेल दिया। आपी की हाइट मेरे जितनी थी.. इसलिए लण्ड सीधा आपी की चूत में चला गया।

अब मैंने आपी की चूत में धक्के मारने चालू कर दिए।

मैंने ऐसे खड़े-खड़े ही आपी को कुछ मिनट तक चोदा.. तभी आपी ने मुझसे कहा- सगीर मैं छूटने वाली हूँ.. रुकना मत।
अब आपी की आवाज़ में तेज़ी आ गई- उफफ्फ़ सगीर.. मैं गई.. ऊऊहह..
इसी के साथ ही आपी ने पानी छोड़ दिया।

मैं भी अपनी मंज़िल के नज़दीक था। मैंने दो झटके और मारे और आपी की चूत में धारें मारने लगा।

हम दोनों ऐसे ही खड़े थे तभी अचानक फरहान की आवाज़ आई ‘आआअहह..’
उसके लण्ड ने भी पानी छोड़ दिया था। सारा पानी हनी की चूत में छोड़ दिया था जो कि थोड़ा-थोड़ा करके बाहर आ गया और बिस्तर पर गिर गया।

हम चारों बिस्तर पर लेट गए और बातें करने लगे।
आपी ने हनी से पूछा.. तो उसने कहा- बहुत दर्द हो रहा है।

इसी तरह बातें करते करते हम सो गए।

जब सुबह आँख खुली तो टाइम साढ़े 6 के करीब हो रहा था। हम सब ऐसे ही कपड़ों के बिना लेटे हुए थे। मैंने सब को उठाया और कपड़े पहनने को कहा। मैंने खुद भी मुँह हाथ धोकर कपड़े पहने और आपी को नीचे आने का कह कर मैं भी नीचे चला गया।

मैं टीवी लाउन्ज में पहुँचा तो अम्मी नाश्ता बना रही थीं और अब्बू टीवी देख रहे थे।
वो दोनों नाश्ते के फ़ौरन बाद निकलने के लिए तैयार थे।

मुझे बैठे हुए अभी 5 मिनट ही हुए थे कि आपी भी नीचे आ गईं और सीधा किचन में चली गईं।
अब्बू ने मुझसे कहा- जाओ उन दोनों को भी उठा कर लाओ.. उनके स्कूल का टाइम हो रहा है।

मैंने फरहान को आवाज़ दी कि उठ जाओ.. तो उसने कहा- हम तैयार हो कर आ रहे हैं।

मैं दोबारा वहीं सोफे पर बैठ गया।

आपी ने नाश्ता लगाना चालू किया।
अब्बू ने आपी से कहा- तुम आज यूनिवर्सिटी मत जाना.. घर को खाली नहीं छोड़ना और सगीर तुम याद से कॉलेज से दुकान पर चले जाना।
तो मैंने कहा- जी अब्बू..

मैं नाश्ता करने लगा।

सबने नाश्ता किया और फरहान और हनी तैयार हो कर बाहर निकल गए।
मैंने सोचा कि पीछे से आपी अकेली होंगी तो कॉलेज जा कर क्या करना है।

मैं नाश्ता करके उठा और आपी के पीछे किचन में गया और आपी के पास खड़े हो कर कहा- आपी अम्मी-अब्बू के जाते ही मैं वापिस आ जाऊँगा।

आपी ने कहा- सगीर ध्यान से.. अब्बू को शक न हो।
मैंने कहा- आप फ़िक्र मत करो.. मैं बाइक साथ ले जा रहा हूँ।

यह कह कर मैं घर से निकल गया और सीधा पास ही एक मेडिकल स्टोर पर चला गया।
वहाँ से आई-पिल और टाइमिंग वाली गोलियाँ लीं और उस आदमी के साथ ही खड़े होकर बातें करने लगा।

कोई 15 मिनट गुज़रने के बाद मैंने सोचा कि अब घर चलना चाहिए.. क्योंकि अम्मी-अब्बू निकलने के लिए बस रेडी ही थे.. अब तक चले गए होंगे।

मैं वहाँ से निकला और सीधा घर चला गया। मैंने दरवाज़ा खोला और अन्दर दाखिल हो कर देखा और चैन की सांस ली कि गाड़ी नहीं थी.. मतलब अब्बू चले गए हुए थे।

मैं सीधा टीवी लाउन्ज में गया.. तो वहाँ कोई नहीं था। आपी किचन में काम कर रही थीं। मैंने आपी को पीछे से अपनी बांहों में भर लिया.. जिससे आपी एकदम चौंक गईं और मुझे डाँटने लगीं- शर्म करो तुमने तो मुझे डरा ही दिया है।

मैंने कहा- आपी छोड़ो ना ये काम.. बाद में करना.. चलो ना पहले कुछ और करते हैं.. आज तो घर भी कोई नहीं है। आज सारा दिन मेरे साथ गुजारो ना!

तो आपी बोलीं- सगीर बस दस मिनट और तुम बाहर बैठो.. मैं ये काम ख़त्म करके आती हूँ.. वरना सारा दिन पड़ा रहेगा।
मैंने कहा- ओके.. पर मैं बाहर नहीं जा रहा हूँ.. यहीं आपके पास खड़ा रहता हूँ।

आपी ने कहा- तुम खड़े ना रहो.. रात को दूध नहीं पिया था हमने.. खुद भी पियो और मुझे भी पिलाओ।
मैंने कहा- ओके और दूध फ्रिज से निकाला और आपी से पूछा- आपी आप कितना पियोगी?
आपी बोलीं- जितना तुम चाहो उतना।
तो मैंने कहा- और जैसे मैं चाहूँ वैसे ही पीना पड़ेगा।
आपी बोलीं- ठीक है.. मैं वैसे ही पियूंगी.. जैसे तुम चाहोगे।

मैंने दूध जग में डाला और आधा जग भर लिया.. चीनी डाल कर मिक्स करने लगा।
मैंने मिक्स करते हुए आपी से कहा- आपी अभी तो मुझे आपका दूध भी पीना है.. आज बहुत दिल कर रहा है।
तो आपी बोलीं- शरम करो बहन हूँ मैं तुम्हारी..
और ये कह कर वे हँसने लगीं।

मैंने कहा- आपी आप बहन के बाद मेरा प्यार भी तो हो ना.. और मेरी सेक्स पार्ट्नर भी हो.. तो इसलिए मुझे हक है।
हम दोनों हँसने लगे।

दूध में मैंने चीनी घोली और आपी से कहा- आपी आप रेडी हो?
तो आपी ने ‘हाँ’ में सर हिलाया।

मैंने कहा- ओके.. फिर लो अपने होंठ लाओ इधर।
जग से मैंने एक घूँट अपने मुँह में भरा और आपी की तरफ अपना मुँह किया.. तो आपी ने भी अपना मुँह मेरी तरफ किया। मैंने अपने होंठ आपी के होंठों से ज़ोड़ कर खोल दिए और दूध आपी के मुँह में डालने लगा।

पूरा घूँट मैंने आपी के मुँह में डाल दिया और आपी के होंठों को चूसने लगा। आपी ने भी मेरे होंठों को चूसना चालू कर दिया.. जिससे आपी के मुँह में बचे हुए दूध की धार बाहर आपी के होंठों से होती हुई आपी के बूब्स के अन्दर जाने लगी।
आपी के गर्दन गीली हो गई।

कुछ सेकेंड किस करके आपी बोलीं- सगीर तुम पागल कर दोगे मुझे..
तो मैंने कहा- यही तो मैं चाहता हूँ कि आप मेरे लिए पागल हो जाओ और फिर मेरे साथ हर वक्त सेक्स करो।
यह कह कर मैं दोबारा घूँट भरने लगा तो आपी ने कहा- रूको..

अब आपी क्या करने वाली थीं मुझे देखना था।

आपके ईमेल के इन्तजार में
हूँ।
वाकिया जारी है।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top