मामा की लड़की की चुदाई-1

मेरा नाम संजु है। मैं बड़ा सेक्सी ३० साल का लड़का हूं। मेरा लंड ८ इंच लम्बा है जो किसी भी चूत को फाड़ सकता है। मैं एक ओरिजिनल कहानी आपको बता रहा हूं। आज से दो साल पहले मेरे भाई के लड़के की शादी में मेरे मामा की लड़की शीला आयी थी। उसकी उम्र २६ साल थी, उसके एक बेटा था। देखने में शीला की काफ़ी बड़ी बड़ी चूचियां थी। एक चूची इतनी बड़ी कि एक हाथ से पकड़ी न जाये। हर समय उसकी चूची उसके ब्लाउज़ से झांकती रहती थी। उसकी गांड का तो जवाब नहीं था, देखते ही मुँह में पानी आ जाए। साली को जब से देखा था मेरा लंड बेचैन हो गया था उसकी चूत मारने के लिये। उसकी चूत मेरे आँखों के सामने घुमती थी।

शादी सर्दियों की थी इस लिये एक कमरे में सब लोग सोते थे ज़मीन पर। मैने किसी तरह उसके पास सोने का इन्तजाम कर लिया। रात को मैने अपना एक हाथ उसकी चूची पर रख दिया और देखने लगा कि हरामजादी कुछ बोलती तो नहीं है। लेकिन उसने कुछ नहीं कहा। मैं धीरे धीरे उसकी चूची को दबाने लगा, उसने फिर भी कुछ नहीं बोला। मेरी तो लोटरी खुल गयी। मैने उसके ब्लाउज़ का बटन खोल दिया और उसकी नंगी चूची को जोर जोर से दबाने लगा। वो पलट कर मेरी तरफ़ मुँह करके सो गयी। उसकी चूची मेरे मुँह के सामने थी। मैने उसकी चूची को चूसने लगा और उसका निप्पल टाइट होता गया। उसके मुँह से सिसकारी निकलने लगी। मैने उसके होंठों को चूसा। उसकी दोनो चूचियों का मर्दन करने लगा।

उसने जोर से मुझे पकड़ लिया, मैने उसकी साड़ी उठा दी कमर के ऊपर और अपना हाथ उसकी गरमागरम चूत पर रख दिया। उसकी चूत तो भट्टी की तरह गरम थी और गीली भी। मैने अपनी एक उंगली उसके चूत में घुसेड़ दी और अंदर बाहर करने लगा। वो पागलों की तरह मेरे को पकड़ ली और धीरे से बोली “राजा बहुत मजा आ रहा है, एक और उंगली डालो, एक से मेरा क्या होगा।” मैने उसकी चूत में अपनी चार उंगली डाल दी और चूत में उनको घुमाने लगा। शीला सिहर उठी “अरे मेरे राजा जोर जोर से मेरी चूत को मारो, साले फाड़ दे इस चूत को, इसकी भूख खतम नहीं होती है। अ अ अ अ अ हा हा हा इस इस इस आ आ आ रे रे रे रे मीईएरीई राजा। मेरी चूत की चटनी बना दो। मैं मर जाउंगी। साले बोल मौका मिलेगा तो इस चूत को चोदेगा और इसकी भूख मिटायेगा। मादरचोद जोर जोर से कर”

उसने लुंगी के भीतर हाथ डाल कर मेरा लंड पकड़ लिया। “अरे तेरा लंड है या कुतुबमिनार, ये तो मेरी चूत को तार तार कर देगा। राजा वादा करो इस कुतुबमिनार को मेरी चूत में डालोगे” मैने बोला “अरे रंडी मैं तो तेरी चूत और गांड दोनो फाड़ुंगा, मैं तो मौका ढूंढ रहा हूँ, तेरी चूत तो पूरा इंडिया गेट है और इसको कुतुबमिनार जैसे लंड से ही चोदना होगा”। उसकी चूत में मेरा हाथ तेजी से अंदर बाहर हो रहा था और वो पूरे जोर से झड़ गयी। उसने मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर लोली पोप की तरह चाटने लगी और आखिर में मेरे लंड ने अंदर का सारा माल उसके मुँह में गिरा दिया और वो सारा पी गयी और बोली “राजा इसमें विटामिन होता है, इससे सारी बिमारियां दूर होती हैं। तुम समय देख कर मेरे चूत का विटामिन पीना, बड़ा मजा अयेगा” मेरी तो एक ही इच्छा है कि तेरा लोहे की तरह का लंड मेरी चूत को चोद चोद के उसकी चीथड़े कर दे, साली की भूख मिटती ही नहीं है”

दोस्तों शादी का घर था, ये अपना रोज रोज का प्रोग्राम हो गया था, मौका पा कर मैने शीला की चूत और गांड दोनो को मैने जी भर के मारा, जिसकी दास्तान आपको अगली बार बताउंगा।

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! मामा की लड़की की चुदाई-1

प्रातिक्रिया दे