चूत रस्म-4

(Chut Rasm- Part 4)

This story is part of a series:

मेरी बहन मुझसे चुदने के लिए तैयार थी साथ ही वो मुझे बता रही थी कि उसको चुदाई के दौरान गालियां सुनना पसंद है।

अब मैं खड़ा हो गया, पहले तो मैंने बोला- साली छिनाल आज से तू मेरी रंडी.. तू मेरी अब बीवी है.. बहन की चूत… साली शरमा क्यों रही है.. अभी तो मैं तेरी चूत पिऊंगा और गांड में लंड भी डालूँगा.. और तेरी माँ को भी चोदूँगा साली कुतिया।

यह सुन कर वर्षा बहुत खुश हुई।
फिर मैंने कहा- साली कोठे की रंडी.. वर्षा रांड.. चल चूत पसार दे।

उसने चूत खोल दी और मैं उसकी चूत को गौर से देखने लगा।
वर्षा ने मेरा मुँह अपनी चूत पर रख दिया और मैंने जीभ धीरे-धीरे उसकी चूत के अन्दर पेल दी।

वो पागलों की तरह आगे-पीछे होने लगी और फिर उसको पेशाब आने लगा।
फिर उसने कहा- भोसड़ी के.. मेरा पेशाब निकल रहा है.. क्या तू पियेगा?
तो मैं ख़ुशी से बोला- कुतिया.. आज तो में तेरा कुछ भी पी लूँगा।

मैंने औंधे लेटते हुए अपने दोनों पैर फैलाकर अपना मुँह अपनी बहन की चूत पर लगा लिया और वर्षा रांड ज़ोर से पेशाब करने लगी।
‘सुर्र..’

मैं उसका पेशाब पीकर खुश हो गया और साथ में वो भी खुश हो गई।

वो बोली- आज तुमने मुझे खुश कर दिया.. बोल क्या चाहिए?
मैंने कहा- अभी तो तुझे मेरा लंड लेना बाकी है जान..

वर्षा ने कहा- तू जल्दी से मेरी चूत को चाट कर गर्म कर दे… तेरा लंड मैं चूस कर तैयार करती हूँ।

मैं जल्दी से वर्षा की चूत की तरफ़ मुँह करके लेट गया और अपने लंड को उसके मुँह के पास ले आया।
वो जल्दी से मेरा लंड मुँह में भर कर चूसने लगी।

भाई अपन भी चटाक-चटाक क़रके उसकी बुर को चटखारे के साथ चूस रहे थे।
क्या स्वाद था… नमकीन एकदम मस्त वाला।

मैं बहुत चाव से उसकी छोटी सी बुर को चूस रहा था और अब वो ‘आह आह’ करने लगी थी। उसकी बुर से बहुत ढेर सारा रस बाहर निकल पड़ा.. जिसे मैं चूस कर चाट गया।

जब उसकी बुर पूरी तरह से चिकनी हो गई.. तब उसमें मैंने अपनी एक उंगली घुसेड़ दी, वो कराह उठी- आआआह जानू.. क्या कर रहे हो बहुत दर्द हो रहा है।

मैंने कहा- मेरी रानी अभी बहुत अच्छा लगेगा तुम्हें.. जरा बर्दाश्त करो।
फ़िर मैंने दो उंगलियां एक साथ उसकी बुर में डाल दीं और आगे-पीछे करने लगा।

मेरा लंड जल्दी ही खड़ा हो कर तन गया, तभी मैंने अपना पूरा लंड दीदी की चूत में जोरदार धक्के के साथ घुसेड़ दिया।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

वर्षा रंडी चिल्ला पड़ी- आयईईई.. इस्सस्सस.. मम्मी.. मार डालाआ.. ओ भईया बहुत दर्द हो रहा है.. साले माँ के लवड़े.. ज़रा भी तरस नहीं खाया तूने.. अपनी बहन पर.. आह्ह.. पूरा जल्लाद बन गया.. चोदते वक्त कहीं इतनी जोर से भी धक्का मारा जाता है मादरचोद?

अब मैं उसके निप्पल को दांत से दबाते हुए बहुत ही आराम से धक्के मारने लगा।
वो ‘ऊऊओफ़्फ़.. उफ़्फ़..’ कर रही थी और अब इस तरह दर्शा रही थी कि मुझे बहुत मस्ती मिल रही है।

‘आअहाआ भाई.. बहुत मज़ा आ रहा है.. थोड़ा और जोर से धक्का मारो ना.. प्लीज़्ज़.. तुम्हें अपनी बहन की चूत की कसम है.. आज मेरी चूत में अपनी सारी ताकत झोंक देना.. ज़रा भी तरस ना खाना.. साली बहुत कुलबुलाती रहती है।’

फ़िर तो मैंने धक्कों की झड़ी लगा दी।

फ़चाफ़च.. की आवाज़ निकल रही थी और दीदी भी अपने चूतड़ को उछाल रही थी, वो बहुत जोर-जोर से चिल्लाने लगी, उसको चुदवाते हुए बहुत देर हो गई थी।

वो सिसकारी पर सिसकारी ले रही थी- आह्ह्हह.. आअह्ह्ह.. ओह्ह्ह.. आहा मेरे राजा मेरे बलमा.. मेरी चूत के राजा.. हाय राम.. दैया रे क्या चोदू मास्टर निकला रे.. मेरा भाई.. ओह्ह्ह्ह रामजी ऐसी ही ठुकाई चाहिए थी मुझे.. आह्ह.. ओहो मजा आ ग्याआअ गया रे.. आआआआअ..

मैं उसकी आहों से मस्त होकर और तेज तेज चोदने लगा। कुछ ही पल और चुदाई हुई और अब वर्षा जोर-जोर से चिल्लाने लगी- मेरे चोदूँ बलमा.. मैं आने वाली हूँ.. आह्ह्ह्ह आअ..

मुझे भी पूरे शरीर में झुरझुरी हुई और मैं भी बोला- आअह्ह्ह मेरी रंडी ले मेरी मलाई भरवा ले अपनी चूत में.. आहह..
इस तरह चिल्लाते हुए हम दोनों एक साथ झड़ गए।

दोस्तो, क्या बताऊँ कितना मजा आया बहन की चूत चोदने में!

झड़ने के बाद मैंने दीदी से पूछा- दीदी मेरी रंडी बहना.. अब तो खुश हो ना।
वर्षा बोली- हाँ रे मेरे चोदू भाई.. मेरी चूत के मालिक.. मैं बहुत खुश हूँ।

मैंने पूछा- तो अब तो बता दो कि ये चूत रस्म क्या है?

वर्षा बोली- अच्छा ठीक है तो सुन.. आज से दो साल पहले जब मेरी शादी हुई.. और पहली बार जब मैं अपने ससुराल गई। तब जाने के दो दिन बाद ही मैंने अपनी सासू माँ को अपने ससुर से बात करते हुए जो सुना वो तू अब सीधे सुन।

ससुर- वर्षा तो अब अपने घर की सदस्य बन गई है.. हम उसको अपने परिवार की इस अनोखी रस्म को उसको बता सकते हैं। वो भी राहुल (वर्षा का पति) से बहुत प्यार करती है। मुझे पूरा विश्वास है कि वो इस रस्म को बहुत ही अच्छे से निभाएगी। मैंने रात में सुना है कि कैसे वो राहुल से चुदवाती है।

सास- हाय हाय जानू.. वो बिल्कुल मेरे जैसे चुदवाती है। जैसे मैं तुमसे चुदवाती हूँ.. वैसे ही वो भी पूरे मजे ले के चुदवाती है। पूरी चुद्दकड़ रांड है मेरी बहू।

तभी मेरा ससुर रमेश बोला- ऐसा है तो हमको भी कभी उसका रस चखाओ जानेमन।
सास सविता बोली- वाह रे मेरे मरियल घोड़े.. पहले अपनी इस चुदक्कड़ सविता रांड की बुर तो पेल ले।

बस फिर वो दोनों चुदाई में लीन हो गए।

दोस्तो, दीदी सुना रही थीं और मुझे दीदी की इस अनोखी रस्म के बारे में सुनते हुए बड़ा मजा आ रहा था।
मैंने कहा- दीदी और आगे बताओ ना।

तो दीदी ने आगे बताना शुरु किया:
मैंने अपने पति को अपनी सास और ससुर की सारी बातें बताईं और उनसे पूछा कि राहुल, मम्मी जी कौन सी रस्म की बात कर रही थीं।
तो राहुल बोले- अच्छा तो तुमको भी हमारे घर की रस्म के बारे में पता चल गया।
तब मैंने बोला- हाँ।

राहुल मेरा एक बोबा जोर से मसकते हुए बोले- अरे मेरी रानी जब तुझको पता चल ही गया.. तो ठीक ही हुआ।
यह बोल कर वो मेरा दाहिना बोबा चूसने लग गए।

‘आआह्ह्ह्ह आह्ह.. आह आह्ह उइ माँ हाय रामजी अह्हा आहा जानू बाबू.. क्या मस्त चूसते हो मेरे राजा आह.. खा जाओगे क्या इसको.. मेरे राजा।’
‘हाँ मेरी रंडी.. तेरे मस्त तरबूज मुझे बहुत टेस्टी लगते हैं बेबी.. मेरी रांड.. आ जा, ले तू भी चूस मेरा लौड़ा।’

और फिर मैं तेरे जीजाजी का खड़ा लंड जोर-जोर से चूसने लगी। वो भी और मैं भी दोनों सिसकारी भरने लगे।

मेरी दीदी की यह मस्त कहानी सुन कर मैं भी गर्म होने लगा और धीरे-धीरे दीदी की चूत और एक बोबे को सहलाने लगा। साथ ही साथ दीदी भी मेरे लवड़े को मसलने लगी।

फिर मैंने अपनी मिडल फिंगर को दीदी की लपलपाती चूत में उंगली को डाल दिया, तो दीदी के मुँह से ‘आह्ह्ह.. आईईई..’ की आवाज निकल गई।

मैं कुछ देर तक लगातार अपनी उंगली को अन्दर-बाहर करता रहा और कुछ देर के बाद दीदी ने जोश में आकर मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत की तरफ़ किया, जिसकी वजह से मैं अब मेरी दीदी की चूत को चाटने चूसने लगा था और दीदी ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाती हुई लगातार सिसकारियाँ लेती रहीं।

दोस्तो, करीब दस मिनट के बाद दीदी मचलती हुई मुझसे कहने लगी- प्लीज आह.. आअह्ह कुछ करो.. उफ्फ्फ मैं अब और ज्यादा नहीं सह सकती.. स्स्सीईईई प्लीज थोड़ा सा जल्दी करो और मुझे शांत कर दो आह्ह्ह..

मैं भी पूरा कमीना था, मैंने बोला- दीदी इतनी भी जल्दी क्या है.. पहले ये तो बताओ कि फिर जीजाजी ने क्या किया?

वर्षा बोली- फिर तेरे जीजाजी मेरे घाघरे को ऊपर उठा करके, नीचे से उसके अन्दर घुस गए और मेरी मुनिया रानी को लगे चूसने.. लगे चूसने..

तभी मैं भी दीदी की बुर को मुँह से जोर-जोर से चूसने लगा और दीदी ‘आह्ह्ह्ह आहा दैया रे.. जा..जानू.. मैं तब भी ऐसे ही आवाजें कर रही थी.. चूस भोसड़ी के.. चूस मेरी चूत..’

मैं भी अब जोश में आ गया, मैंने उसको बिस्तर पर पटका और उसके ऊपर आकर उसके होंठों को पागलों की तरह चूमना चालू कर दिया।
वो भी मुझे बेताबी से चूम रही थी, ऐसा लग रहा था कि वो भी किस करते-करते मेरे मुँह में ही घुस जाएगी।

कुछ पलों बाद वर्षा मेरी जाँघों पर बैठ गई।

वर्षा के मम्मों को अपने सामने लाइव देख कर मैं तो पागल सा हो गया था.. क्योंकि मुझे उसके 34 साइज़ के बोबे बहुत ही ज्यादा आकर्षित करते हैं।

मैंने उन्हें जोर-जोर से दबाना चालू कर दिया.. उसके चूचे बहुत ज्यादा सॉफ्ट थे.. एकदम मुलायम रुई के गोले वाउ.. मेरा मन कर रहा था कि सारी रात उन्हें ही दबाता रहूँ।

मैंने वर्षा से बोला- वर्षा मेरी रांड.. बता न.. कैसे मेरे जीजा ने तेरी चूत का भोसड़ा बनाया।

वर्षा ने मेरे लंड पर पहले हाथ फेरा और हाथ फेरते हुए अपना मुँह मेरे लंड के सुपारे पर लगा दिया और फिर किसी कुल्फी की तरह चूसना चालू कर दिया।

उसके चूसने के ढंग से मैं और ज्यादा गर्म होता जा रहा था। उसने धीरे-धीरे मेरे पूरे लंड को अपने थूक से गीला कर दिया था।

हम दोनों पूरे नंगे थे और वो बिस्तर पर मेरे सामने डॉगी स्टाइल में आ गई।
मैंने अपना लंड इस बार उसकी गांड पर सैट किया और पहला धक्का लगाया।

वो वर्जिन तो नहीं थी.. पर फिर भी उसकी गांड काफी टाइट थी इसलिए पहला धक्के में मेरा थोड़ा सा ही लंड उसकी गांड में गया।
मैंने फिर से एक ज़ोरदार झटका मारा और आधा लंड उसकी गांड में घुस गया और वर्षा के मुँह से ज़ोरदार चीख निकली ‘आह्ह..ह्ह्ह..’

मैंने अपनी बहन की गांड मारना शुरू कर दिया था। वो मदमस्त होकर अपनी पति से हुई चुदाई का किस्सा सुना रही थी साथ ही चूत रस्म का राज भी खुलने वाला था।

आपके पत्रों का इन्तजार रहेगा।
[email protected]
कहानी जारी है।

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top