बहन को चोद कर गर्भवती किया

(Bahan Ko Chod Kar Garbhwati Kiya)

दोस्तो, अन्तर्वासना में यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है. मेरा नाम राजवीर है, मैं दिल्ली का रहना वाला हूँ. मेरी उम्र 25 साल है.
मैं एक साधारण से परिवार से हूँ. मेरे घर में मेरे पापा-मम्मी और एक छोटी बहन है, उसका नाम शैली है. उसकी उम्र 22 साल है. उसकी फिगर कमाल की है. मेरी बहन की शादी को लगभग एक साल हो गया है. उसकी शादी ग्वालियर में हुई थी.

शादी से पहले ही मैं और वो बहुत रंगरेलियाँ मना चुके थे. मैंने उसके जिस्म के एक-एक भाग को तबियत से रगड़ा हुआ था. वो भी मेरे लंड की बहुत दीवानी थी. उसकी शादी के 3 साल पहले तक मैंने उससे घर के हर कोने में हर तरह से चुदाई की हुई थी. शैली भी मेरे संग चुदाई में मेरा पूरा साथ देती थी.

हम दोनों साथ में नहाते थे, जब भी अकेले होते तो बिना कपड़ों के ही घूमते थे. पर जब से उसकी शादी हुई, मैं बिल्कुल अकेला पड़ गया.

फिर मेरी किस्मत ने साथ दिया. शैली ससुराल से पूरे 10 दिनों तक रहने के लिए यहाँ आ गई. हमने फोन पर ही प्लानिंग कर ली थी. मम्मी-पापा एक शादी के चक्कर में शहर से दूर गए हुए थे. वो जिस दिन निकले, उसी दिन शैली आ गई. अब हमारे पास पूरे 10 दिन और मस्ती के लिए पूरा घर खाली था.

मैं उससे स्टेशन पर रिसीव करने गया. वहाँ पर हम दोनों बिल्कुल नॉर्मली मिले. मैंने सामान उठाया और हम कार में आकर बैठ गए. शैली ने कार में बैठते ही मुझे गले से लगा लिया. अगले 5 मिनट तक हम यूं ही चिपके रहे, फिर हमने एक किस की और वहाँ से घर की ओर निकल पड़े.

घर आकर शैली ने अपने आने की वजह बताई कि उसके ससुराल वाले अब उससे बच्चे के लिए बोलने लगे हैं कि परिवार को अगला वंश कब मिलेगा?
मैंने पूछा- तो इसमें दिक्कत क्या है?
फिर शैली ने बताया कि वो अपना पहला बच्चा मुझसे चाहती है, अपने पहले प्यार से.. इसलिए ही वो बहाना बना कर यहाँ आई है.
मैंने भी दिलासा देते हुए कहा- तेरी कोख में ही भरूँगा.. तू ही पहले मेरे बच्चे को जन्म देगी.

फिर हम शाम की तैयारी में लग गए. शाम हुई और मैं जल्दी से नहा कर शॉर्ट में घूमने लगा. शैली ने भी जल्दी से तैयारी कर ली. हमने डिनर किया और फिर शैली नहाने बाथरूम में चली गई. लगभग 20 मिनट बाद जब शैली बाहर निकली तो मैं हैरान रह गया. वो पहले से भी ज़्यादा गदराई हुई और सेक्सी लग रही थी. उसका जिस्म बिल्कुल चमक रहा था और उसने हल्का सा गहरे गले का टॉप और नीचे छोटी सी स्कर्ट पहन रखी थी, जो मुश्किल से उसकी चूत को ढक पा रही थी.

मैं उसे इस तरह देख कर अपना लंड सहलाने लगा. वो दूसरे रूम में जाकर हल्का सा तैयार होकर मेरे कमरे में आई.
उसने आते ही लाइट बंद कर दी.

मैं उसके करीब गया और उसे अपनी बांहों में भर लिया. मैंने फिर उसके जिस्म की तारीफ की और उससे बेतहाशा चूमने लगा, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया. मैं अपने एक हाथ से उसकी चुचियों को टटोलने लगा और अपना दूसरा हाथ उसकी स्कर्ट में डाल कर उसकी गांड की लकीर को सहलाने लगा.

शैली आहें भरने लगी, मैं उसे ऐसी ही पोज़िशन में बेड के करीब ले गया. वहाँ जाकर मैंने उससे गले पर काटने-चूसने लगा. मैंने उसकी दूध से भरी चूचियां दबा-दबा कर जी भर के काटी और खूब चूसीं.

फिर मैंने शैली के जिस्म से उसका टॉप अलग कर दिया और एक-एक करके उसकी स्कर्ट फिर उसकी पेंटी भी उतार दी. शैली ने झट से मेरे शॉर्ट में हाथ डाल कर मेरा लंड पकड़ लिया और दूसरे हाथ से मेरे कपड़े उतार दिए.

फिर मैंने अपना लंड हल्का सा हिलाया शैली को इशारा किया और शैली ने मेरे 7.5 इंच का लंड पूरा अपने मुँह में भर लिया और बड़े प्यार के साथ उसे चूसने लगी. वो मेरे लंड को बड़ी बेकरारी से चूस रही थी. मैंने उसकी चुचियाँ मसलनी शुरू की, जैसे-जैसे मुझे मज़ा आने लगा मैंने शैली के मुँह में ही झटके मारने शुरू किए और अगले 5 मिनट में शैली के मुँह में ही झड़ गया. शैली ने मुँह से लंड बाहर निकालना चाहा, पर मैंने निकालने नहीं दिया बल्कि उसे क्स कर पकड़ कर पूरा माल ज़बरदस्ती उसे पिला दिया. उसने भी पूरा रस गपागॅप पी लिया.

फिर उसने अपना मुँह साफ़ किया. मैंने उसे उठाया और किस करने लगा. वो भी अब तक बहुत गरम हो गई थी. मैंने उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर पटका और उसकी टाँगों के बीच में आ गया.

उसकी चूत में से क्या मस्त खुशबू आ रही थी. मैंने अपनी बहन की चूत चाटनी शुरू की. चुत पर जीभ के स्पर्श से वो तो मानो स्वर्ग में पहुँच गई थी. पूरा कमरा उसकी आवाजों से गूँज रहा था. वो बिस्तर को मसले जा रही थी और मैं उसकी चूत चाटता जा रहा था. फिर उसने मेरे सिर को कस कर अपने चूत पर दबा लिया. मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है. अगले ही पल उसका शरीर अकड़ गया और एक तेज़ धार उसने मेरे मुँह में छोड़ दी. मैं भी उसका चूत रस पी गया. इतने में वो थक गई.. पर मेरा लंड दूसरे चक्कर के लिए जाग गया था.

मैंने शैली से कहा- तैयार हो जा मेरी जान.. आज तू अपने भाई का लंड फिर से लेने वाली है.

वो खुश हो गई, मैंने उससे चित लिटाया और उसके ऊपर आ गया. लंड को चुत पर सैट करके उसकी चूत में एक ही झटके में अपना आधा लंड घुसा दिया. वो दर्द से चिल्ला पड़ी, मैंने परवाह ना करते हुए लंड थोड़ा पीछे निकाला और एक और झटके के साथ पूरा घुसा दिया. उसकी आँखों से आँसू निकल आए. फिर मैंने उसकी चीख को कवर करने के लिए अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और कुछ देर तक उसे यूं ही चूमता रहा.

फिर उसकी चूत में धीरे-धीरे अपना लंड हिलाने लगा और 5 मिनट बाद शैली की चूत में ज़ोर-ज़ोर से शॉट मारने लगा. शैली दर्द से कराहती रही, चीखती रही. पूरा कमरा उसकी आहों से गूँज रहा था, पर वो साथ भी पूरा दे रही थी.

करीब 10 मिनट तक मैं उससे इसी तरह चोदता रहा, फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उससे चूमने लगा. वो थोड़ा शांत हो गई.. पर बहुत खुश भी थी. फिर मैंने उसे डॉगी स्टाइल में झुकाया और इस पोज़िशन में काफ़ी देर तक चोदता रहा, वो इस बीच 2 बार झड़ चुकी थी.

अब मैं भी झड़ने वाला था, मैंने उसे चित लिटाया, उसकी टांगें अपने कंधों पर रख उसे धकापेल चोदने लगा. मेरा लंड उसकी चूत की जड़ में टकरा रहा था. जब-जब मेरा लंड पूरा अन्दर जाता शैली चीख उठती.

मैं जैसे ही झड़ने को हुआ मैंने शैली को कस कर पकड़ लिया. उसकी चूत में अपना पानी छोड़ दिया और उसके ऊपर ही लेट गया. अगले 10 मिनट तक उसकी चूत में से मैंने अपना लंड नहीं निकाला.

उस रात मैंने शैली की 4 बार चुदाई की सुबह साढ़े पांच बजे हम दोनों आख़िरी बार झड़े और थक कर शैली मेरे ऊपर ही सो गई.

मेरी बहन की चुदाई की कहानी आप सबको कैसी लगी.. मुझे ज़रूर मेल करें.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! बहन को चोद कर गर्भवती किया