विकास जैन

rss feed

Author's Website

मौसम की करवट-7

मेरे ऑफ़िस की एक दोस्त अकेली थी फ़्लैट में तो उसने मुझे उसके साथ रहने को कहा था। 13 फ़रवरी की रात थी, हम दोनों शॉपिंग करके थोड़ी ड्रिंक करके आए थे और एक ही बेड पर सोना था।

मौसम की करवट-6

प्रिया के साथ उन प्यारे लम्हों के बाद मैं काफी अकेला हो गया था, वो विदेश चली गई थी। मुंबई के एक मल्टिनेशनल कंपनी में मेरा चयन हो गया, कुछ अच्छे दोस्त बने।

मौसम की करवट-5

सुबह हुई, हमेशा की तरह रिया पहले उठी। फ़िर उसने प्रिया को और मुझे जगाया। हम पूरे नंगे सो रहे थे बस कम्बल ओढ़ रखा था। प्रिया उठी और एक प्यारी सी चुम्मी कर के मुझे उठाया। ये रिया देख रही थी, तब उसे अहसास हुआ कि उसने क्या किया और शरमाने लगी। मुझे प्रिया […]

मौसम की करवट-4

विकास जैन सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, मैं विकास, आज फिर आप सभी के सामने अपनी अधूरी कहानी पूरी करने आया हूँ। क्षमा चाहता हूँ आप सभी को इतना इन्तजार करवाने के लिए। आज से दो साल पहले मैंने अपनी कहानी की शुरआत की थी। पाठकों के लिए कहानी के पिछले अंश के लिंक […]

मौसम की करवट-3

रास्ते भर मैं बस प्रिया के बारे में सोच रहा था कि अब ना जाने उस पर क्या बीतेगी… मैं अपने घर पहुँचा…नहा कर अपने बेड पर लेट गया। घर में मेरी चाची जी थी, उन्होंने मुझे आवाज लगाई और बोली- मैं अपनी सहेली के घर जा रही हूँ तो घर सम्भाल लेना… शाम तक […]

मौसम की करवट-2

On 2011-12-27 Category: पहली बार चुदाई Tags:

आप सबको एक बार फ़िर प्यार भरा प्रणाम! मेरी कहानी आप सभी ने पढ़ी और मुझे मेल किया, मैं इसको आप सभी का प्यार समझता हूँ… जैसे कि मैंने अपनी पहली कहानी में बताया था कि मेरी ज़िन्दगी में एक हादसा हुआ था। कहानी के इस भाग में मैं उस हादसे का वर्णन करुँगा। आप […]

मौसम की करवट-1

वो आकर मेरी गोद में बैठ गई और अपनी बाहों को एक हार की तरह मेरे गले में डाल दिया। मैंने भी उसको अपनी बाहों में लिया और हमारी प्रेम कहानी शुरू हो गई...

Scroll To Top