राजवीर वीरू दादा

rss feed

दो जवान बहनें और साथ में भाभी-2

रिंकी मेरे लंड बैठने लगी तो फलक भाभी ने कहा ने कहा- अरे तुम दोनों ने तो कितनी बार किया है वीर के साथ, मैं प्यासी हूँ, मेरी प्यास बुझाने दो।

दो जवान बहनें और साथ में भाभी-1

रिंकी और पिंकी शहर छोड़ के चली गई थी। अचानक रिंकी का फोन आया, उसने मुझे अपने नए घर का पता दिया और आने को कहा। मैं अगले दिन तैयार हो कर गया तो…

देखा… मैं बच्ची नहीं हूँ

On 2014-04-24 Category: गुरु घण्टाल Tags:

यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएँ हम न तमन्ना है कि किसी को रुलाएँ हम जिसको जितना याद करते हैं उसे भी उतना याद आयें हम ! हैलो दोस्तो, कैसे हो आप लोग, उम्मीद करता हूँ कि सबको मिल रही होगी और जिसको नहीं मिल रही होगी.. उसको भी एक न एक दिन मिल […]

तड़फ़ाते बहुत हो-4

On 2013-08-04 Category: चुदाई की कहानी Tags:

अब चोद भी डालो ना ! मुझे रुला कर दिल उसका भी रोया होगा, चेहरा आँसुओं से उसने भी धोया होगा, अगर न हासिल किया कुछ, हमने कुछ प्यार में, कुछ न कुछ तो उसने भी जरुर खोया होगा। तभी तेज बारिश होने लगी और पूनम छत पर जाकर नहाने लगीं क्योंकि उसकी छत पर […]

तड़फ़ाते बहुत हो-3

On 2013-08-03 Category: चुदाई की कहानी Tags:

अब चोद भी डालो ना ! कितने बरसों का सफ़र खाक हुआ, जब उसने पूछा, कहो कैसे आना हुआ? मैं तेज-तेज चोदने लगा और एक हाथ से उसकी चूचियाँ दबाने लगा। पारुल भी मेरे कंधे को पकड़ कर अपनी तरफ खींच रही थी। मैं भी तेज स्पीड में उसकी चूत में धक्के लगा रहा था। […]

तड़फ़ाते बहुत हो-2

On 2013-08-02 Category: चुदाई की कहानी Tags:

अब चोद भी डालो ना ! ज़िन्दगी का पहला प्यार कौन भूलता है, ये पहली बार होता है जब कोई किसी को, खुद से बढ़ कर चाहता है, उसकी पसंद उसकी ख्वाहिश में खुद को भूल जाता है, होता है इतना खूबसूरत पहला प्यार तो क्यों अक्सर अधूरा रह जाता है? पूनम ने कहा- देखो […]

तड़फ़ाते बहुत हो-1

On 2013-08-01 Category: चुदाई की कहानी Tags:

अब चोद भी डालो ना ! दिल के आँगन में चाँद का दीदार हो गया, हम उन्हें देखते ही रह गए, वो बादलों में खो गया, हमने बादलों के हटने का इन्तजार किया, जब सामने आया तो वो किसी और का हो गया। . हैलो दोस्तो, कैसे हो आप लोग? उम्मीद करता हूँ कि आप […]

मालिया और साशा की चुदाई

राज वीर यूँ तो गमों में भी हंस लेता हूँ मैं फिर आज क्यों बेवजह रोने लगा हूँ मैं बरसों से हथेलियाँ खाली रही मेरी, फिर आज क्यों लगा सब खोने लगा हूँ मैं ! तो कैसे हैं मेरे अज़ीज़ अन्तर्वासना ले पाठक पाठिकाएँ ! जैसा कि आपने मेरी पिछली कहानी ‘मजबूरी में‘ में पढ़ा, […]

मज़बूरी में-2

On 2011-12-24 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : राजवीर उसका स्टॉप आ गया, वो अपने को ठीक करके जाने की तैयारी करने लगी, उस आदमी ने उसे अब तक नहीं छोड़ा था, उसकी गांड अभी भी मसल रहा था। एक आंटी जो सब देख रही थी, मैं उनकी तरफ देख के मुस्कुराया, वो भी जवाब में मुस्कुराई और वो भी उठने […]

मज़बूरी में-1

On 2011-12-23 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : राजवीर हेल्लो दोस्तो, कैसे हो आप लोग ! आशा करता हूँ कि आप भी तैयार होंगे अपना अपना पानी निकालने के लिए ! एक लड़की थी, नाम पता नहीं क्या था उसका, पर मस्त लगती थी, अब आप ही बताइए रास्ते पे आ जा रही लड़की का नाम पता कैसे मालूम होगा, चलो […]

भाई की साली की चूत चुदाई -2

मैं शेविंग किट लाया और सबसे पहले उसकी चूत के आसपास के बाल साफ़ करने थे। मान नहीं रही थी पर फिर भी जोर देने पर सलवार उतार ही दी और फिर बाथरूम में जाकर बैठ गई। मैंने उसे टाँगे खोलने को कहा, धीरे धीरे शरमाते हुए उसने टाँगे खोल ही दी।

भाई की साली की चूत चुदाई -1

वो कुछ न बोली, बस शरमा कर मुँह छुपा लिया। मैंने उसका हाथ हटाया और गालों पर एक चुम्मा दे दिया, वो पूरी शर्म से लाल हुई पड़ी थी। फिर मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और उसके होंठ चूसने लगा।

खुली आँखों का सपना-2

On 2011-04-20 Category: गुरु घण्टाल Tags:

खुली आँखों का सपना-1 पहले भाग में मैंने अपने स्कूल टाइम की बात बताई थी कि कैसे मैंने आशा मिस को चोदा था. उसके बाद भी कई बार उनको चोदा, लेकिन कविता मिस को एक बार भी कुछ नहीं कर पाया. स्कूल से निकलने के बाद भी कविता से बात नहीं हो पाई. सब कुछ […]

खुली आँखों का सपना-1

एक बार फिर अपनी नई कहानी लेकर आया हूँ मैं राजवीर! यह घटना अभी हाल ही में घटी थी मेरा साथ. पर आपको फ्लैशबैक में लेकर जाता हूँ थोड़ी देर के लिए. बात तब की है जब मैं बारहवीं में पढ़ता था. एक टीचर थी वहाँ, 22-23 साल की होगी, नाम था कविता! रंग तो […]

दिल की तमन्ना

On 2011-02-20 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : राजवीर मेरी पूर्व प्रकाशित कहानियों पर काफी मेल आये, उसके लिए आपका शुक्रिया ! आपके मेल से ही तो हमें नई कहानियाँ लिखने की प्रेरणा मिलती है। आपने मेरी कहानी दो बूँद आँसू तो पढ़ी ही होगी। उसमें मैंने अपनी फ्रेंड की सहेली की बहन की मदद की थी। रूपा अब अपने बेटे […]

दो बूंद आँसू

On 2010-11-23 Category: कोई मिल गया Tags:

राजवीर दोस्तो, मेरी पिछली कहानियाँ पढ़ के आपने जो अपने कीमती मेल भेजे उसके लिए शुक्रिया। तो मैं अपनी नई कहानी पर आता हूँ। एक मेरी दोस्त है उसके घर में एक दिन पार्टी थी, काफी लोग आये थे, ज्यादतर लड़कियाँ ही थी। उसकी एक सहेली आयशा के साथ उसकी बड़ी बहन रूपा भी आई […]

मेहनत का फ़ल

कैसे हो आप लोग… आशा है कि आपको मेरी भेजी हुई कहानियाँ पसंद आई होंगी, मुझे काफ़ी सारे मेल भी आये जिसके लिए मैं आपको धन्यवाद कहता हूँ। यह कहानी है मेरे मामा के लड़के की बीवी यानि मेरी भाभी की ! मैं कुछ दिनों के लिए अपने मामा के यहाँ गया हुआ था, वहाँ […]

मिस यू सोनिया

On 2010-05-27 Category: चुदाई की कहानी Tags:

हेल्लो दोस्तो, मैं राजवीर एक बार फिर से हाजिर हूँ एक नई दास्ताँ लेकर ! मैंने कई कहानियाँ लिखी, कई सारे मेल आये। कुछ कहते हैं झूठ है, कुछ कहते हैं सच है। हुआ मेरे साथ है, मुझे पता है जिसको लगता है कि झूठ है तो पढ़ो और मजे लो। जिसको लगता है सच […]

दो जवान बहनें पिंकी और रिंकी-8

On 2009-12-01 Category: कोई मिल गया Tags:

फिर हम बिस्तर पर लेट गए। बाहर से अभी भी तेज आवाज आ रही थी, मैंने झांक कर देखा तो… पिंकी सोफे पर बैठी थी और रिंकी उसकी चूत चाट रही थी। सुमीत पीछे से उसकी चूत मार रहा था। मैंने हेमा से पूछा- तुम्हारी सील किसने तोड़ी थी? उसकी आँखों में आँसू आ गए। […]

दो जवान बहनें पिंकी और रिंकी-7

On 2009-11-30 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : राजवीर रिंकी की मामी अपने मायके गई तो मामा ने रिंकी को चोदने में देर नहीं लगाई और उसे नेता जी से चुदवाने की बात भी कर ली। रिंकी अच्छे से तैयार हो गई। शाम को उसके मामा विस्की और कुछ खाने को लाये। ठीक आठ बजे नेता जी जिसका नाम मनोज था […]

Scroll To Top