तनु गुर्जर

rss feed

Author's Website

जन्मदिन के उपहार में गाण्ड मरवाई-2

Janamdin ke Upahar me Gaand Marvai-2 मैं काफ़ी देर तक भैया के ऊपर लेटा रहा, कभी उनकी आँखों मे आँखें डाल कर उनको देखता और वो मुझे फिर उनके रसीले होंठों का रस पीता और कभी उनके बालों पर अपना हाथ फेर कर उनकी गर्दन को चूमता। वो भी मेरे साथ ऐसा ही कर रहे […]

जन्मदिन के उपहार में गाण्ड मरवाई-1

Janamdin ke Upahar me Gaand Marvai-1 दरअसल मेरे ये भैया मेरे पापा के जूनियर हैं, उनका नाम करण है। हमेशा से ही मुझे पुलिस वाले अच्छे लगते थे और भैया भी एक पुलिस वाले हैं। उनमें एक अजीब सी कशिश है, जिसने मुझे पहली ही नज़र में दीवाना कर दिया था और आज तक कर […]

Scroll To Top