सम वन

बेटे के दोस्त पर कामुक दृष्टि-4

उसने कहा- और बर्दाश्त नहीं होता अब. बाकी चीजें हम बाद में करेंगे. उसके लिए हमारे पास बहुत वक़्त है. लेकिन सबसे पहले मैं तुम्हें अन्दर महसूस करना चाहती हूँ.

पूरी कहानी पढ़ें »

बेटे के दोस्त पर कामुक दृष्टि-3

शबनम ने आधे खुले होंठों के साथ अंकित की आँखों में गहराई से देखा. उसकी आँखें इच्छाओं की आग से जल रही थीं. अंकित को पाने की इच्छा. इस बार और हर बार पूरी होने की इच्छा.

पूरी कहानी पढ़ें »

बेटे के दोस्त पर कामुक दृष्टि-2

जब से उसने अपने बेटे के दोस्त का लंड देखा था, वो उसे भुला नहीं पा रही थी. शायद वो उसको पाना चाहती थी. लेकिन बेटे का दोस्त तो बेटा ही होता है न! तो क्या करे वो?

पूरी कहानी पढ़ें »

अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें

हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, सहमति बॉक्स को टिक करें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।

Scroll To Top