संजय शर्मा, दिल्ली

rss feed

अचानक हुई भाभी की चुदाई-2

Achanak Ho Gai Bhabhi Ki Chudai-2 हम लोग लगातार एक दूसरे का जिस्म सहला रहे थे। भाभी के हाथ सिर्फ मेरी पीठ और सर पे चल रहे थे पर मैं उनकी पीठ और नितम्ब को सहला रहा था और थोड़ी थोड़ी देर में उनके चूतड़ों को दबा भी देता था जिससे भाभी की एक हलकी […]

अचानक हुई भाभी की चुदाई-1

Achanak Ho Gai Bhabhi Ki Chudai-1 प्रिय दोस्तो, संजय का आप लोगों को एक बार फिर नमस्कार। जैसा कि अब तक की मेरी कहानियों से आपको पता चल ही गया होगा कि मैं चूत का बहुत बड़ा दीवाना हूँ। एक काफी मशहूर कहावत है और मैं भी उसी पर चलता हूँ कि ‘चूत और साँप […]

चचेरी बहन बनी बिस्तर की रानी-3

मैंने उसकी स्कर्ट एक झटके में उतार कर फेंक दी। एक जवान खूबसूरत लड़की मेरे बिस्तर पर सिर्फ पेंटी में थी। एकदम गोरा रंग, बिना बालों का नमकीन सा जिस्म। सहा नहीं गया मुझसे और मैंने अपना मुँह उसकी चूत पे रख दिया। पाव जैसे उसकी चूत पेंटी के अन्दर थी जो मैं खाने क़ी […]

चचेरी बहन बनी बिस्तर की रानी-2

वक़्त देखते हुए मैंने ज्यादा आगे ना बढ़ने का विचार किया और उसको पजामा और अपने कपड़े सही करने को कहा। वो उठी और अपना पजामा चढ़ाने लगी। मैंने उसको रोका और उसके चूतड़ों पर चूम लिया और पजामा ऊपर कर दिया और अपने कपड़े भी सही कर लिए। मैंने उससे पूछा- कैसा लगा? तो […]

चचेरी बहन बनी बिस्तर की रानी-1

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को संजय का नमस्कार ! दोस्तो, मेरी कहानियों को आपने इतना पसंद किया उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद ! आपके प्रोत्साहन से प्रेरित हो के मैं आपके सामने अपनी एक और आप बीती सुनाने आया हूँ, आशा है आपको पसंद आएगी। कृपया अपने मेल से मुझको जरुर बताएँ कि कहानी […]

बिस्तर में लाने की ख्वाहिश

On 2012-03-14 Category: ऑफिस सेक्स Tags:

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। दोस्तो, आप सब ने मेरी अभी तक की सारी कहानियों को बहुत सराहा उसके लिए तहे दिल से धन्यवाद। आज मैं फिर से आपके मनोरंजन के लिए अपनी एक आपबीती घटना लेकर आया हूँ। मेरी अन्य कहानियों से अलग इस कहानी का मज़ा लेने के लिए आपको अपनी […]

आप कुछ ऐसा करो-2

प्रेषक : संजय शर्मा, दिल्ली अगली रात को मेरे कहने पर भाभी ने अपना ब्लाउज खोला और अपने चूचे मेरे हाथों में दे दिए। क्या मस्त नर्म नर्म चूचे थे मानो स्पंज की गेंदें मेरे हाथो में हो। मैंने उनके स्तनों को खूब मसला और चूसा। नीचे मैं उनकी चूत में उंगली भी कर रहा […]

आप कुछ ऐसा करो-1

प्रेषक : संजय शर्मा, दिल्ली प्रिय दोस्तो, मैं संजय एक बार फिर अपनी आपबीती आपके साथ बाँटने आ गया हूँ। आप लोगों ने मेरी कहानियों को जैसे सराहा, उसने मुझे मजबूर कर दिया कि मैं आपके साथ अपने अनुभव और बाँटू। कहानी शुरु करता हूँ। दोस्तो, जैसा कि आपको पता है सेक्स मेरी कमजोरी है […]

एक के साथ दूसरी मुफ़्त-2

On 2009-07-11 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : संजय शर्मा उसने मुझे कहा- अंदर अलमारी में मेरे बॉय फ्रेंड का सूट रखा है, वही पहन लो। यह कह कर वो दोनों अपने अगले पेग को ख़त्म करने में लग गई। मैं अंदर गया पर मुझे वो सूट नहीं मिला तो मैंने अपनी दोस्त को आवाज़ दी। थोड़ी देर में वो अंदर […]

एक के साथ दूसरी मुफ़्त-1

On 2009-07-10 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : संजय शर्मा दोस्तो, मेरी कहानियों को पढ़ कर आपने जो मेल किये उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद। आप लोगों के प्रोत्साहन के कारण मैं आप लोगो के सामने अपनी नई कहानी लेकर आया हूँ, आशा करता हूँ कि मेरी पिछली कहानियों की तरह यह भी आपको संतुष्ट कर पायेगी। सेक्स मेरी कमजोरी […]

मन अभी भरा नहीं !

On 2008-03-16 Category: चुदाई की कहानी Tags:

जैसा कि आप जानते हैं कि सेक्स की भूख कभी कम नहीं होती। यही हाल मेरा था। मोना की दीदी की चुदाई और भाभी को चोदने के बाद में नए साथी की तलाश कर रहा था। कहते हैं ना कि जहाँ चाह होती है रास्ते अपने आप निकल आते हैं। मेरे साथ भी कुछ ऐसा […]

जब मैं जिगोलो बना-2

जब मैं जिगोलो बना-1 मैं थोड़ा हैरान था, मैंने कहा- आप नाराज़ तो नहीं होगी? मुझको तो आप इस एक्ट्रेस से बहुत ज्यादा सेक्सी लग रही हो! वो बोली- तुम भी बहुत सेक्सी हो और उसने अपने हाथ मेरे गले में डाल दिए. फिर वो बोली- अगर हम दोनों ही इतने सेक्सी हैं तो क्या […]

जब मैं जिगोलो बना-1

अन्तर्वासना पढ़ने वाले सभी पाठकों को मेरा नमस्कार. मेरी पहले की कहानियों के लिए कई लोगों ने मुझको मेल करके प्रोत्साहित किया, उसके लिए मैं आपका धन्यवाद देता हूँ. उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए मैं आप लोगो को अपने जीवन की एक और कहानी बताना चाहता हूँ और आशा करता हूँ आपको यह कहानी […]

मोना क़ी दीदी क़ी चुदाई

जांघों को चूमते-चूमते मैंने उनकी स्कर्ट पूरी ऊपर कर दी और अपनी उंगली उनकी पेंटी में डाल कर उसको एक तरफ़ करके पहली बार उनकी चूत के दर्शन किये.

भाभी के पैरों का दर्द

नमस्कार प्रिय पाठको, मैं संजय एक बार फिर आप लोगों को अपनी कहानी सुनाने आया हूँ। मेरी पिछली कहानी खेल खेल में चोदा आप लोगो को बहुत पसंद आई और मुझे कई मेल भी मिले उसके लिए धन्यवाद। दोस्तो! चुदाई ऐसा मज़ा है कि बार बार लेने का मन करता है। जब तक मोना मेरे […]

खेल खेल में चोदा

On 2006-08-16 Category: पड़ोसी Tags:

प्रेषक : संजय शर्मा अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार ! मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और मैं भी सभी को अपनी जिन्दगी की वो बातें बताना चाहता हूँ जिनको पढ़ कर सभी को मज़ा आए ! दोस्तों यह वो घटना है जिसने पहली बार मेरा परिचय एक लड़की के जिस्म से करवाया […]

Scroll To Top