राहुल स्मार्टी

rss feed

सहारनपुर की मस्त भाभी

On 2012-06-27 Category: कोई मिल गया Tags:

हेलो दोस्तो, आपका प्यारा और सेक्सी चूतों का दीवाना फिर से हाज़िर एक अपनी मस्त और सेक्स से भरपूर कहानी लेकर… सबसे पहले तो आप सब दोस्तों के प्यार का बहुत बहुत धन्यवाद… मुझे बहुत सारी मेल मिली जिनमें से बहुत सी मेल सेक्सी भाभियों और हॉट हॉट लड़कियों की थी… आई लव यू आल […]

घर की बात-2

On 2007-11-03 Category: रिश्तों में चुदाई Tags:

प्रेषक : राहुल जैन सभी पाठकों को राहुल जैन का तहे दिल से प्रणाम। मैं आप सभी लोगों का आभार प्रकट करता हूँ कि आपने मेरी पहली कहानी घर की बात पसंद की और मुझे प्रोत्साहित किया कि मैं इसके आगे की कहानी घर की बात-2 लिखूँ। तो लीजिये आपके सामने हाज़िर है घर की […]

घर की बात

On 2007-06-18 Category: रिश्तों में चुदाई Tags:

मैं आप लोगों को आज अपने जीवन की एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ।। मेरा नाम राहुल है और मैं एक बिज़नसमैन हूँ। मेरे घर में हम चार लोग हैं- पिताजी, माँ, मैं, और मेरी छोटी बहन ! बात आज से 4 साल पहले की है जब मैं बारहवीं कक्षा में था, मेरी बहन […]

ऐसा सुख कहीं नहीं

On 2006-09-05 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राहुल घई मेरा नाम राज घई है, मैं लुधियाना में रहता हूँ। आज मैं आप लोगो को अपना एक व्यक्तिगत अनुभव बताने जा रहा हूँ जो पिछले साल जुलाई के महीने में मेरे साथ हुआ। मैंने तब तक सेक्स नहीं किया था पर इस बार एकदम से किस्मत मेरे ऊपर मेहरबान होगी मैंने […]

जालंधर के होटल में

On 2006-08-21 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : राहुल दोस्तो, राहुल हरियाणा से फ़िर हाज़िर है आपके लिए एक रोमांच और सेक्स से भरपूर कहानी ले कर……… सभी मर्द अपने लंड को हाथ में दबा के और लड़कियाँ अपने वक्ष को दबा के और अपनी चूत में ऊँगली दे कर बैठें ! अपनी कहानी शुरू करने से पहले मैं पाठकों को […]

इसमें तो बहुत मजा आया

On 2005-12-11 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राहुल हेल्लो दोस्तो ! मैं राहुल हरियाणा फ़िर से हाज़िर हूँ आपके लिए एक रोमांच और सेक्स से भरपूर कहानी ले कर ! सभी मर्द अपने लंड को हाथ में दबा के और लड़कियाँ और औरतें अपने स्तनों को दबा के और अपनी चूत में ऊँगली दे कर बैठें ………… आज अपनी कहानी […]

पड़ोस की कुंवारी लड़की

यह कहानी है मेरे एक पड़ोस की लड़की की जो देखने में कयामत थी उसका नाम था शबनम। और वो देखने में भी किसी फूल से कम नहीं थी वो। क्या कहूँ, बिल्कुल कैटरिना लगती थी। मैं जब भी उसे देखता मेरा लंड मेरी पैन्ट को फाड़ने लगता था

चूत का प्यासा

On 2004-11-06 Category: कोई मिल गया Tags:

अंतर्वासना के नियमित पाठको फड़कती हुई चूतों और मोटे मोटे लंडो को मेरा सलाम ! मैं राहुल हरियाणा से फिर एक बार हाज़िर हूँ अपने दोस्तो के लिए एक मसाले से भरी कहानी लेकर ! पिछली कहानी के लिए मुझे बहुत सी मेल आई। मुझे बहुत अच्छा लगा। शायद आपको कुछ बताने की ज़रूरत नहीं […]

एक नेट फ़्रेन्ड की मस्त चुदाई- सच्ची कहानी

हाय फ्रेंड्स स्टोरी पढने वाली चूत और लोडों को मेरे लंड का सलाम . आपने आज तक बहुत सी स्टोरीस पढ़ी होंगी मैं भी आज अपनी एक सची स्टोरी इस साईट पे डालना चाहता हु ..मै राहुल हरियाणा से . ये बात अभी कुछ ही समय पहले की है मुझे नेट पे एक लड़की मिली […]

Scroll To Top