मम्मी से बदला लिया सौतेले बाप से चुदकर-3

मैं अपने पापा से चुदना चाहती थी और पापा भी मुझे चोदने के लिए मेरे कमरे में आये थे. लेकिन आँख की शर्म के कारण हम खुल नहीं पा रहे थे. आखिर मैं पापा से कैसे चुदी? पढ़ें इस भाग में!

मम्मी से बदला लिया सौतेले बाप से चुदकर-2

मैं चुदाई के लिए बेताब थी, मैंने पापा का लंड देखा जब वे मम्मी को चोद रहे थे तो मैंने अपने पापा को पटाने का फैसला किया. मुझे पटा था कि पापा भी मुझे चोदना चाहते हैं.

मम्मी से बदला लिया सौतेले बाप से चुदकर-1

एक दिन मैं अपने घर में अपने यार से जोर शोर से चुदवा रही थी कि मेरी मम्मी आ गयी. मैंने अपने यार को अपने नंगे बदन से हटाया और बाथरूम में चली गयी.

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-5

उन्होंने अपने लंड को मेरी चुत के मुँह पर रखा और मेरी तरफ देखा, वह पल आ गया था कि मैं अपने पचास साल के मौसा जी पर अपनी अठारह साल की कमसिन जवानी लुटाने जा रही थी।

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-4

अंकल ने कैसे हमारी जवान नौकरानी को चोदा, पढ़ें इस भाग में… साथ ही पढ़ें कि कैसे बारिश में अंकल ने मेरे साथ सेक्स से भरा मजा लिया.

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-3

नाईटी घुटनों तक लंबी थी पर बीच में जांघों तक कट था तो उसमें से मेरे गोरी जांघें दिख रही थी। बारिश की वजह से मेरी पतली नाईटी भीग कर पारदर्शी हो गयी थी और उसमें मेरी ब्रा और पैंटी दिख रही थी

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-2

मैंने खीरा कमरे में ले जाना था और कहाँ फंस गयी, मुझे डर था कि कहीं खीरा मेरी चुत से फिसल न जाये, पैंटी उतारी न होती तो उसे खीरे पर लेकर उसको फिसलने से रोक सकती थी।

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-1

मैं अपनी पढ़ाई के लिए शहर में अपनी मौसी के घर में रहने लगी. लेकिन मेरे फ़ौजी मौसाजी बहुत सख्त थे तो मेरी चूत को लंड मिलने बंद हो गए.

पेयिंग गेस्ट से कामवासना की तृप्ति-2

मुझे मेरी मैक्सी ऊपर सरकती महसूस हुई, पहले टांगें फिर जांघें उसके सामने नंगी हो रही थी। मैंने शर्म से आंखें बंद कर दी। उसने अपना हाथ सीधे मेरी नंगी जांघों पर रखा तब मेरे सारे बदन पर बिजली दौड़ गई।

पेयिंग गेस्ट से कामवासना की तृप्ति-1

मेरे पति मेरी चुदाई करते हुए ज्यादा फोरप्ले नहीं करते, सीधा कपड़े उतार कर लंड चुत में डालकर चोद कर झड़ जाते हैं। मेरे पति के एक दोस्त हमारे घर में पेईंग गेस्ट रहते थे. मैंने उनसे कैसे अपनी चूत चुदाई करवायी?

मेरा नौकर राजू और मैं-3

मैंने कामवासना के वशीभूत होकर अपने नौकर को अपने कमरे में बुलाया और मैं उसके जिस्म से चिपक गई, उसके लंड को पकड़ लिया. मेरी चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मैं उस से कैसे चुदी.

मेरा नौकर राजू और मैं-2

मैं अपने पति के साथ सेक्स से वंचित थी और अपने जवान नौकर के साथ चुदाई के सपने देखने लगी थी. टीवी पर पुरुषों का फैशन शो देख कर मेरी कामुकता पूरी उफान पर थी, मैंने अपने नौकर को बुला लिया और…

मेरा नौकर राजू और मैं-1

हम औरतें अपनी यौन भूख पर बहुत नियंत्रण रखती हैं, पर कभी कभी हम भी मजबूर हो जाती हैं। मैं भी अपने पति सी पूर्ण यौन सुख नहीं पा रही थी. छोटी बहन की चुदास भरी बातें सुनकर मेरे अंदर वह भूख फिर उभरने लगी थी।

मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-5

मेरी सेक्स कहानी के पिछले भाग मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-4 में आपने पढ़ा कि मेरी छोटी बहन सीमा अपने नौकर के साथ पहली बार सेक्स करने जा रही… [Continue Reading]

मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-4

होली वाले दिन मेरी छोटी बहन ने अपनी तीन सहेलियों के साथ मिल कर अपने युवा नौकर से भांग बनवा कर पी ली और सबको चढ़ गयी. सभी लड़कियां नौकर के लंड की दीवानी हो गयी.

मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-3

मेरी छोटी बहन मुझे बता रही है कि उसके सेक्स सम्बन्ध मेरे नौकर से कैसे और कब बनने शुरू हुए. कैसे चार सहेलियों ने भाग पी और नौकर के लंड की लम्बाई को लेकर उनमें शर्त लग गयी.

मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-2

मेरे घर में जवान नौकर था और मेरी बहन मेरे घर आने वाली थी. मैं बाजार से लौटी तो मुझे पटा चल गया कि मेरी बहन मेरे नौकर से चुद रही है. तो मैंने क्या किया. पढ़ें मेरी इस एडल्ट स्टोरी में!

मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-1

“मालकिन… तनिक छुट्टी चाही आठ दिन की!” बद्री चाचा मुझसे छुट्टी मांगते हुए बोले। “क्यों चाचा?” मैंने पूछा। “गांव जाना है, होली आवत है ना…” चाचा बोले। “चाचा आपको तो… [Continue Reading]

एक अजनबी अंकल संग जवानी की कहानी

तब इंटरनेट पर चैट रूम बहुत चलते थे। मैं भी याहू इंडियन चैट रूम में अनजान लोगों के साथ चैट करती थी। उनमें से एक थे रघु अंकल, वे मुझसे अच्छे से चैट करते, मेरी प्रोब्लम्स में मेरी मदद करते। पढ़ें मेरी जवानी की कहानी और मजा लें!

पड़ोस के सलीम भाईजान-4

नीतू ने पहले कभी हिंदी ब्लू फिल्म नहीं देखी थी। नितिन भी इतना रोमान्टिक नहीं था कि उनके साथ बैठ कर पोर्न फिल्म देखे। उसकी हमेशा से ही ऐसी फ़िल्म देखने की चाहत थी और सलीम उसकी यह इच्छा भी पूरी कर रहा था।