बोरिंग दोपहर को रंगीन बनाया दो अंकल ने-4

मैं दो अंकल से अपनी चूत चुदाई की मस्ती ले रही थी. बहुत मजा आ रहा था. रात को मैंने खुल छत पर दोनों अंकल से चुदाई का मजा लिया. आप पढ़ कर देखें!

बोरिंग दोपहर को रंगीन बनाया दो अंकल ने-3

एक अंकल से चूत चुदाई करवा के हटी तो दूसरे अंकल ने मुझे पकड़ लिया. मेरी सेक्स स्टोरी पढ़ के देखें कि कितनी जोरदार चुदाई हुई मेरी…

बोरिंग दोपहर को रंगीन बनाया दो अंकल ने-2

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी में आपने पढ़ा कि सिनेमा हाल में मिले दो अंकल मेरे शरीर से खेलने के बाद मुझे अपने घर ले जाने की जिद करने लगे. मैं… [Continue Reading]

बोरिंग दोपहर को रंगीन बनाया दो अंकल ने-1

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी में पढ़ें कि कैसे मैं अकेली इंग्लिश मूवी देखने गई, बहुत कम लोग थे, दो अंकल मेरी दोनों तरफ बैठ गए. उन अंकल ने क्या किया.

कामुकता की आग पर प्यार की बारिश-2

बारिश के कारण मुझे स्कूल के सिक्योरिटी गार्ड के घर में रुकना पड़ा. बारिश के मौसम ने हम दोनों के बदनों में कामुकता भर दी और हमारे बदन आपस में खेलने लगे.

कामुकता की आग पर प्यार की बारिश-1

बारिश में भीगने के बाद मेरे स्कूल के सिक्योरिटी गार्ड में मेरी कामुकता की आग पर अपने प्यार की जो बारिश की… मैं धन्य हो गई…

आर्मी अफ़सर के साथ चूत लंड की मस्ती-2

ट्रेन में आर्मी अफ़सर के साथ के बाद हमने दोबारा मिलने का प्लान बनाया. हम मिले एक दूसरे शहर में… इस सेक्सी कहानी में पढ़ें कि हमने क्या क्या किया!

पेंटर ने मेरी चूत को रंग दिया-4

‘दीवारों के कलर शेड से ज्यादा शेड सेक्स में होते हैं!’ यह बात मुझे पेंटर से पता चली. उसने मुझे तरह तरह से चोद कर मजा दिया. मेरी सेक्सी कहानी पढ़ कर मजा लें!

पेंटर ने मेरी चूत को रंग दिया-3

घर पेंट करने के लिए लगाया आदमी मुझे चोदने पर उतारू था. मेरा मन भी था उसके लम्बे मोटे लंड से चुदाने का… खुद पढ़ कर मजा लीजिये मेरी सेक्सी कहानी का…

पेंटर ने मेरी चूत को रंग दिया-2

घर पेंट कराने के लिए पेंटर बुलाया तो मुझे उसकी नज़र ठीक नहीं लगी. वो मेरे साथ भद्दे अश्लील ढंग से बात कर रहा था. लेकिन अब मुझे भी इस खेल में रोमांच होने लगा था.

पेंटर ने मेरी चूत को रंग दिया-1

हमने अपना बंगलो पेंट करने का फैसला लिया. पेंटर जब घर देखने और रेट तय करने आया तभी मुझे उसकी नज़र ठीक नहीं लगी. सेक्सी कहानी पढ़ कर मजा लें.

ट्रेन में आर्मी अफ़सर के साथ चूत लंड की मस्ती

ट्रेन की कन्फर्म बुकिंग न मिलने से मुझे RAC में बर्थ शेयर करना पड़ा। मेरे साथ आर्मी अफ़सर था, हम एक-दूसरे को चोरी छुपे देखते रहे। फिर उसने बात करना चालू किया।

कॉलेज लाइफ में पर पुरुष से प्यार

एक गार्डन में डेढ़ साल की बच्ची रो रही थी, मैंने उसे प्यार किया, इतने में उसके पापा आ गये. मैं उस बच्ची से रोज मिलने लगी और उसके पापा से दोस्ती हो गई.