मयंक त्रिवेदी

rss feed

Author's Website

जिस्म और दिल का रिश्ता है भाभी और मेरे बीच

हमारे परिवार की एक भाभी को देखकर मेरी हमेशा चाहत होती थी 'हे ऊपर वाले कभी तो इनकी चूत के दर्शन करा दो, कभी तो इनकी चूत में मेरा लौड़े को डलवा दो।

Scroll To Top