मानस गुरू

rss feed

अवन्तिका की बेइन्तिहा मुहब्बत-3

सेक्स कहानी के इस भाग में है प्रेमिका का प्यार भरा समर्पण, कुंवारी चूत में लंड घुसने का दर्द और मज़ा… प्यार करने वाली लड़की की गांड की चुदाई!

अवन्तिका की बेइन्तिहा मुहब्बत-2

मेरी माशूका मेरे घर में आई हुई थी, हम पहली बार सेक्स करने जा रहे थे तो वह इसे सुहागरात की तरह से कर रही थी। हम दोनों पूरे नंगे थे और वो मेरे नंगे बदन से खेल रही थी।

मैं और मेरी दोस्त की बहन

मानस गुरू मेरा नाम देव है. मेरी उम्र २३ साल की है. मैं पढ़ाई लिखाई में बचपन से ही अच्छा हूँ. गणित मेरी प्रिय विषय है. जब मैं स्नातकी में था तब मेरी दोस्त की बहन १२ कक्षा पास करने के बाद मेडिकल प्रवेशिका परीक्षा देने की तैयारी कर रही थी. मैं अपने फ़ुरसत के […]

प्यास से प्यार तक-2

On 2007-03-27 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : मानस गुरू तभी से मैं श्रीजा को पाने के लिए योजना बनाने लगा। कुछ दिन बाद समीर कुछ काम से अपने घर चला गया। यही मेरे लिए सोने पे सुहागा जैसा था। तो मैंने श्रीजा को चोदने की सारी योजना पर अमल करने लगा। उस दिन मैं सुबह के करीब नौ बजे ही […]

प्यास से प्यार तक-1

On 2007-03-26 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : मानस गुरू (यह कहानी अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्यों को “श्रीजा का गदराया बदन” नाम से भेजी गई है।) दोस्तो, मैं हाज़िर हूँ एक नई और दिलचस्प कहानी लेकर जो मेरे दोस्त और उसकी गर्लफ्रेंड की है और एक ब्लू सीडी की है जो उन दोनों पर बनाई गई। बात उन दिनों की […]

Scroll To Top