रवीन्द्र महतो

rss feed

मेरी जानू और उसकी माँ

मैंने अमृता की ब्रा और कच्छी भी उतार दी, उसका शरीर उसकी मम्मी के जैसा ही गोरा था, बुर के चारों तरफ़ घने बाल थे। मैं उसके शरीर और बुर को 10 मिनट तक चाटता रहा।

Scroll To Top