कोमल प्रीत कौर

हेलो, मेरा नाम कोमल प्रीत कौर है, मेरे पति आर्मी में हैं, मैं अपने सास ससुर के साथ अपनी ससुराल में रहती हूँl मेरी चूचियाँ 34 इंच, कमर 28 इंच और गांड 36 इंच की है. मेरी हाईट 5'3" है, मेरे काले रेशमी लम्बे बाल मेरे चूतड़ों तक आते हैं.

rss feed

फूफा जी के हब्शी लौड़े से चूत की चुदाई करवा ली

मेरे पति के फूफा जी की नजर मुझ पर थी, मैं भी हमेशा चुदाई की प्यासी रहती थी. एक बार फूफा जी हमारे घर दारू के नशे में धुत्त हो गए तो मैंने फ़ायदा उठाया.

सोनू और शीला की चुदाई

On 2013-11-01 Category: पड़ोसी Tags:

कोमलप्रीत कौर नमस्ते दोस्तों, आपने मेरी कहानियाँ पसंद की, उसके लिए मैं आपकी बहुत आभारी हूँ। आज मैं आपके सामने अपनी चुदाई की नहीं बल्कि अपने दोस्त सोनू का किस्सा लेकर आई हूँ। जो मुझे सोनू ने आप लोगों के सामने रखने के लिए कहा है। मैं आपको सोनू के बारे में बता दूँ और […]

कॉलेज़ के गबरू

On 2010-03-11 Category: कोई मिल गया Tags:

हैलो दोस्तो, मेरी तरफ से आपको नमस्कार, आपने मेरी सभी कहानियाँ पसंद की उसके लिए मैं आपका धन्यवाद करती हूँ। आप मेरे बारे में जानते हो मगर फिर भी अपने नए दोस्तों को अपने बारे में बताना चाहूँगी। मेरे पति आर्मी में हैं और मैं अपनी सास और ससुर के साथ जालंधर के पास एक […]

चार फौजी और चूत का मैदान

नमस्ते दोस्तो, आपने मेरी पहले आ चुकी कहानियों को बहुत पसंद किया जिसके लिए मैं आपकी आभारी हूँ। अब मैं आपको अपनी चुदाई का एक और गर्मागर्म किस्सा सुनाती हूँ। सर्दियों के दिन थे, मैं अपने मायके गई हुई थी, मेरे भैया भाभी के साथ ससुराल गये थे और घर में मैं, मम्मी और पापा […]

बीच रात की बात-2

उसका लण्ड मेरी चूत में जहाँ तक घुस रहा था वहाँ तक आज तक किसी का लण्ड नहीं पहुँचा था.. ऐसा में महसूस कर सकती थी.. मेरी चूत तब तक दो बार झड़ चुकी थी... और बहुत चिकनी भी हो गई थी...इसलिए अब उसका लण्ड फच फच की आवाजें निकाल रहा था... मैं फिर से झड़ने वाली थी.. मगर उसका लण्ड तो जैसे कभी झड़ने वाला ही नहीं था...

बीच रात की बात-1

अब मैं आपके सामने अपनी एक और चुदाई का किस्सा पेश कर रही हूँ, यह बात तब की है जब हम अपने घर की मरम्मत करवा रहे थे, जिसके लिए बहुत सारे मजदूर लगे थे। उनमें से एक हमारे घर के पीछे बनी शेड के पास कमरे में रहता था। एक रात को नींद नहीं आ रही थी तो मैं अपने कमरे से बाहर आ गई। थोड़ी देर टहलने के बाद मैं उस शेड की तरफ आ गई जिस तरफ वो मजदूर रहता था..

मेरा प्यारा देवर-3

अब मैं उसके मुँह के ऊपर अपनी चूत रख कर बैठ गई और कहा- जैसे मैंने तुम्हारे लौड़े को चूसा है तुम भी मेरी चूत को चाटो और अपनी जुबान मेरी चूत के अन्दर घुसाओ। वो मेरी चूत चाटने लगा, उसको अभी तक चूत चाटना नहीं आता था मगर फिर भी वो पूरा मजा दे रहा था.. मेरी चूत से पानी निकल रहा था जिसको वो चाटता जा रहा था और कभी कभी तो मेरी चूत के होंठो को अपने दांतों से काट भी देता था जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था...

मेरा प्यारा देवर-2

मैंने दुप्पटा अपने गले से निकाल दिया, जिससे मेरे मम्मे उसके सामने आ गए, वो कभी कभी मेरे मम्मों को देखता और फिर टीवी देखने लगता। उसके पसीने छुटने शुरू हो गए।

मेरा प्यारा देवर-1

पिछली गर्मियों की बात है जब मेरे पति की मौसी का लड़का विकास हमारे घर आया हुआ था, वो बहुत ही सीधा साधा और भोला सा है, उसकी उम्र करीब 19-20 की होगी, मगर उसका बदन ऐसा कि किसी भी औरत को आकर्षित कर ले, मगर वो ऐसा था कि लड़की को देख कर उनके सामने भी नहीं आता था। मगर मैं उस से चुदने के लिए तड़प रही थी और वो ऐसा बुद्धू था कि उसको मेरी जवानी दिख ही नहीं रही थी, मैं उसको अपनी गाण्ड हिला हिला कर दिखाती रहती मगर वो देख कर भी दूसरी और मुँह फेर लेता।

मेरी तंग पजामी

मेरी गली के सारे लड़के मुझे पटाने की कोशिश करते रहते हैं। मेरे मम्मे लड़कों की नींद उड़ाने के लिए काफी हैं। मेरी बड़ी सी गाण्ड देख कर लड़कों की हालत खराब हो जाती है.

Scroll To Top