जलगाँव बॉय

hiiiii दोस्तों।में जलगाव बॉय,में जलगाव जिल्हा महाराष्ट्र से हु।आप सभी को मेरी दोस्ती के लिए आमंत्रित करता हु।आप हमारी कहानी जरूर पढ़े और अपने मेल भेजते रहे। यह सब कहानिया हम आप के मनोरंजन के लिये लिखते हे। [email protected]

rss feed

Author's Website

मस्त पड़ोसन की चूत की आग

मेरी पड़ोसन सांवले रंग की है, उसके चूचे बड़े हैं। वो रोज आंगन में कपड़े धोती है तो साड़ी को अपनी जाँघों तक उठा कर बैठती है। मैं उसे देख मुठ मारता हूँ। एक दिन उसने मुझे देख लिया।

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-6

पिछले पार्ट से आगे.. भारती भाभी खुश हो कर बोली- तुम अब पूरे मर्द हो गये हो.. मुझे तुम्हारे बच्चे की माँ बनने में खुशी होगी। हम दोनों हर रोज एक बार जरूर सेक्स किया करेंगे.. ताकि मैं गर्भवती हो जाऊँ। मैंने जवाब दिया- ठीक है भाभी.. हम ऐसे ही रोज करेंगे। भारती भाभी को […]

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-5

छोटी भाभी को मैंने चुदाई के लिये कहा तो वो एकदम तैयार हो गई। मैंने उसके चूचे पकड़ लिये और कुछ देर मसलने के बाद ब्लाऊज खोल कर चूसने लगा। भाभी चुदने को बेचैन हो रही थी।

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-4

बड़ी भाभी को लंड चुसवा कर घर आया तो बाकी भाभियों ने दोअर्थी बातें शुरु कर दी। एक भाभी जानबूझ कर मुझे अपने चूचे दिखा रही थी। तभी मैं उसी भाभी के साथ खेतों पर गया।

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-3

On 2016-07-31 Category: कोई मिल गया Tags:

रसीली भाभी का दूध खत्म हुआ तो रूपा भाभी मेरे सामने नंगी होने लगी. मैंने उनकी चूची भी चूसी तो उसमें भी दूध था. कुछ देर बाद भाभी ने कहा कि अभी तेरा मन नहीं भरा!

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-2

मेरी भाभी के कहने पर रसीली भाभी अपना ब्लाउज खोल कर मुझे अपनी चूचियों से दूध पिलाने लगी। फ़िर मैंने भाभी को चूत के दर्शन करवाने को कहा तो भाभी ने अपना पेटिकोट उठा दिया।

गाँव की मस्तीखोर भाभियाँ-1

मैं अपने गाँव गया तो चाचा की बहुएँ यानि मेरी भाभियाँ मुझसे खूब मज़ाक करने लगी. उनकी बातें द्विअर्थी व अश्लील लग रही थी. जब भाभी मुझे तालाब पर नहाने ले गई तो...

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -9

मैडम- मुझे पता है.. अब तुम्हें चुदाई का चस्का लग गया है.. अब तुम दूसरा शिकार ढूँढ लो और आज आखिरी बार मेरी चुदाई कर लो। मेरी चुदाई करके मुझे गुरूदक्षिणा दे दो।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -8

मैं स्कूल में मैडम की चुदाई के बारे में सोच रहा था, मैडम चुदाई का अगला पाठ पढ़ाएंगी.. शायद आज मैडम गांड मरवाएँगी, उसी के बारे में सोच कर मैं पागल हुआ जा रहा था।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -7

मुझे जल्दी तुम्हारा लण्ड अपनी चूत में चाहिए। तुम लण्ड पहले मेरी चूत पर रगड़ना.. फिर लण्ड को मेरी चूत में डालना, पहले लण्ड का जो लाल भाग है.. उसे अन्दर डालना।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -6

अरे सिर्फ होंठों के ऊपर होंठ रखने से किस नहीं किया जाता.. तुम मेरे होंठों को अपने होंठों में रख कर चूसो। कभी ऊपर के होंठों को.. तो कभी नीचे के होंठों को.. होंठ चूसते हुए मुँह खुले पर अपनी जबान सामने वाले के मुँह में डाल कर उसकी जबान से साथ खेलो।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -5

'हाँ है तो.. और ये तुम्हें लण्ड जैसे शब्द क्यों बोल रहे हो.. तुम्हें शर्म नहीं आती.. मैडम के सामने ऐसे शब्द बोल रहे हो?' अवि- सॉरी मैडम.. गलती हो गई.. फिर नहीं बोलूंगा।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -4

किताब पर न्यूज पेपर से कवर किया हुआ था.. पर पंखे की स्पीड ज्यादा होने से कुछ पन्ने पलट गए। जब मेरी नजर उस किताब पर पड़ी.. तो उसमें लड़कियों की नंगी फोटो बनी थीं।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -3

मैंने मैडम के घर पहुँच कर का गेट खटखटाया.. थोड़ी देर बाद मैडम ने दरवाजा खोल दिया। इस वक्त मैडम एक नाइटी में थीं। मैडम के आम लटक रहे थे.. मैं तो बस उनको देखते ही रह गया।

मेरी बेस्ट टीचर ने मुझे चोदना सिखाया -1

मेरे स्कूल में मेरे दोस्त नंगी फोटो देख कर उनकी ही बातें करते हैं। मुझे भी फोटो देखकर कुछ-कुछ होता.. हालांकि तब मुझे पता नहीं था कि मेरा लण्ड खड़ा क्यों होता है।

माँ और भाभी के साथ चूत चुदाई का खेल -2 HOT!

क्या सच में माँ.. अच्छा हुआ तुमने कल हमारी चुदाई की आवाज सुन ली.. तो फिर अब तुम भी भाभी के जैसी मालिश के लिए तैयार हो या नहीं?

माँ और भाभी के साथ चूत चुदाई का खेल -1

मैं माँ के साथ ही खेतों में हगने के लिए जाता था। वहीं सभी गाँव की औरतें भी हगने जाती थीं। हगने के लिए माँ मुझे अपने पास ही बिठाती थीं, हमेशा अपनी माँ की चूत गाण्ड रोज देखता था।

बाबा जलगांव ब्वॉय का सेक्सी प्रवचन

क्या मर्द और क्या औरत, चुदाई करने की इच्छा सभी को होती है। बिना चुदे चूत में खाज आती है और बिना चोदे लंड बेकार हो जाता है। इसलिए भक्त जनों आज हम चुदाई के लाभ जानने की कोशिश करेंगे।

कोकशास्त्र की रचना -2

कोका पण्डित ने उस औरत संग खूब यौन पूर्व क्रीड़ा की और जब वो पूरी तरह से यौन के लिये तड़पने लगी तो उसकी योनि में लिंग प्रवेश कराया और 64 आसनों से उसे चोदा।

कोकशास्त्र की रचना -1

एक बार कामरीश राजा के राज्य भूमि में ऐसी महिला का आगमन हुआ.. जिसकी चूत में हमेशा आग लगी रहती थी। उसकी सदैव एक ही इच्छा रहती थी कि उसकी चूत में दिन-रात मोटा और तगड़ा लंड डला रहे..

सबसे ऊपर जाएँ