अधूरी ख्वाहिशें-11

उसका पीछे का छेद खुल गया था और मैंने अपना लिंग उसके गुदा में उतार दिया। आगे नितिन का मोटा लिंग होने की वजह से पीछे का रास्ता खुद से ही संकुचित हो गया था और मुझे एकदम टाईट मज़ा दे रहा था।

अधूरी ख्वाहिशें-10

उसे बाहों में मैं लेकर अपने होंठ उसके होंठों के इतने पास ले गया कि हमारी गर्म साँसें एक दूसरे के चेहरे से टकराने लगीं। पहले तो वह थोड़ी असहज रही लेकिन ऐसे हर अहसास पर जिस्मानी भूख हावी पड़ जाती है।

अधूरी ख्वाहिशें-9

मैं अपनी पीठ उसके पेट से सटाते उस पर लगभग शौच की पोजीशन में बैठ गयी। मेरी गुदा का छेद उसके लिंग की टोपी पर टिक गया। अहाना मेरी योनि में उंगली करने लगी। मेरे दिमाग में फुलझड़ियां छूटने लगीं।

अधूरी ख्वाहिशें-8

मैंने और मेरी बहन ने हमारे चचेरे भाई से चुद कर पूरा मजा लिया. लेकिन हमें पता नहीं था कि हमारे इस भाई बहन की चुदाई के खेल को किसी और ने देख लिया है. कौन था वो? और फिर क्या हुआ?

अधूरी ख्वाहिशें-7

वह नीचे बैठ कर अब मेरी योनि भी चाटने लगा और मैं समझ न सकी कि जो मुझे थोड़ी देर पहले “छी” कहने लायक गन्दा लग रहा था, आखिर उसमे इतना मज़ा क्यों आता है। साथ ही उसने एक उंगली मेरे छेद में उतार दी।

अधूरी ख्वाहिशें-6

मेरी बहन मेरी चूत की झिल्ली अपनी उंगली से तोड़ चुकी थी. उसके बाद उसने मेरी योनि को साफ़ किया और अब उसके हाथ में एक लम्बा बैंगन था जो वो मेरी बेचारी चूत में घुसाने वाली थी. क्या होगा मेरा?

अधूरी ख्वाहिशें-5

मेरी बहन मेरी फैली टांगों के बीच औंधी लेट कर हाथ से मेरी योनि के ऊपरी सिरे को सहलाने लगी। मेरे दिमाग में चिंगारियां छूटने लगीं। मैंने कभी सोचा नहीं था कि पेशाब करने वाली जगह में इतना अकूत आनंद हो सकता है।

अधूरी ख्वाहिशें-4

मैंने अपनी बहन और भी को सेक्स करते देखा तो वे दोनों मुझे समझाने लगे कि वे क्या कर रहे थे. उन्होंने मुझे बताया कि वे दोनों एक दूसरे के यौन अंगों की खुजली मिटा रहे थे. फिर वे मुझे करके दिखाने लगे.

अधूरी ख्वाहिशें-3

मेरे दोस्त की बीवी मुझे अपने सेक्स जीवन के बारे में बता रही थी. एक बारिश वाली रात में उसने अपनी बहन और भाई को एक अकेले कमरे में नंगे देखा, भाई नंगी बहन के ऊपर लेटा हुआ था और उसके चूतड़ ऊपर नीचे हो रहे थे.

अधूरी ख्वाहिशें-2

हमारे समाज ने सेक्स को टैबू बनाया हुआ है, सौ में से नब्बे लोग इन समाजों में यौनकुंठित और दुखी ही हैं। जबकि पश्चिमी सभ्यता में यह रोजमर्रा का आम व्यवहार है और वे सेक्स को खुल कर जीते हैं और हमारे मुकाबले वे ज्यादा खुश और खुशहाल हैं।

अधूरी ख्वाहिशें-1

फेसबुक पर बना मेरा एक दोस्त सऊदी में रहता है, उसे मेरी मदद की जरूरत पड़ी, कचहरी का काम था, मैंने उसकी खूबसूरत बीवी की मदद की, उसे पहली बार देख मेरा मन बहक सा गया था.

शीला का शील-14

हमें अपनी अन्तर्वासना को तृप्त करने का कोई जायज़ स्रोत नहीं मिलने वाला तो हमारी शारीरिक इच्छाओं की पूर्ति के लिये इसके सिवा और कौन सा मार्ग हो सकता है?

शीला का शील-13

‘तेरे करम ही ऐसे हैं। कौन नहीं नफरत करता मोहल्ले में तुझसे? मैं करती थी तो कौन सा गलत था। यह तो मेरी मज़बूरी है… क्या करूँ और? कोई रास्ता है हमारे पास जो हम यह सुख हासिल कर सकें?’

शीला का शील-12

उस रात भी शीला और सोनू के शरीर पर कोई कपड़ा नहीं था और दोनों एक आसन में संभोगरत थे जब किसी ने दरवाज़ा पीटा था। इस वक़्त कौन हो सकता है…

शीला का शील-11

दोनों बहनें साथ ही चाचा के कमरे में पहुंची थीं जहां चाचा अपना स्थूलकाय लिंग पाजामे से बाहर निकाले दरवाज़े की तरफ देख रहा था। ‘आज करें क्या चाचा के साथ?’

शीला का शील-10

दिमाग में भरे हुए इस कचरे को निकाल फेंको कि हम कोई सामाजिक मर्यादा या वर्जना तोड़ रहे हैं। हम वे विकल्पहीन औरतें हैं जिनके पास चुनने के लिये कुछ है ही नहीं।

शीला का शील-8

वह भी खुद को उसी मनःस्थिति में पा रही थी कि जल्दी से सब हो जाये, सोनू एकदम योनि में अपना लिंग घुसा दे और इतने धक्के लगाये कि उसकी बरसों की चाह पूरी हो जाये।

शीला का शील-7

उसने नकारात्मक अंदाज़ में सर हिलाते कहा- जो हैं, उनमें मुझे भोगने की लालसा रखने वाले तो कई हैं लेकिन ऐसा एक भी नहीं जिस पे मैं भरोसा कर सकूँ।

शीला का शील-6

मैं महसूस कर सकती थी कि उसने अपने लिंग को, फिर मेरी योनि को फैला कर बीच छेद पर उसे टिकाया हुआ है और मेरे घुटनों पर फिर पहले जैसी पकड़ बना ली है।