diwana_ek

rss feed

शायरी में चुदाई

On 2005-04-01 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : दीवाना “अजनबी” बहुत अँधेरा है कमरे में रौशनी कर दो , उतार दो यह पैराहन, चांदनी कर दो . चली भी आओ मैं जकड़ूँगा तुम को बाँहों से , मैं पीना चाहता हूँ आज बस निगाहों से . दिखा के अपना हुस्न मेरे होश गुम कर दो , कि आज प्यार की पहली […]

Scroll To Top