अलवी साहब

rss feed

नवाजिश-ए-हुस्न-4

On 2013-04-06 Category: कोई मिल गया Tags:

लेखक : अलवी साहब सीढ़ियाँ उतरते मुड़ के वापस उसके पास गया और कलाई पकड़ के एक तरफ लिया और पूछा- चेहरा क्यों उतरा हुआ है? तो इतनी मासूमियत से उसने कहा- आप जा रहे हैं इसलिए ! अल्लाह, क्या खूब अदा दी है तूने इस हंगामा-परस्त खूबसूरती को ! मैंने कहा- दो घंटे बाद […]

नवाजिश-ए-हुस्न-3

On 2013-04-05 Category: कोई मिल गया Tags:

लेखक : अलवी साहब पूरी बस खाली थी, हम दोनों अन्दर अकेले थे, वो बैग ढूंढ़ रही थी और मैं उसके करीब ही था बिल्कुल, मैंने उसकी कलाई पकड़ी और सीट पर बिठा दिया, खुद भी बैठ गया, और बहुत ही संजीदगी के साथ उसे कहा- शहनाज़, खुदा जाने क्या बात है, आज जब से […]

नवाजिश-ए-हुस्न-2

On 2013-04-04 Category: कोई मिल गया Tags:

लेखक : अलवी साहब इतने में हम पहुँच गए और चारों को सही सलामत ऊपर उनके कमरे तक पहुँचाया, सामान अन्दर रखवाया, मैं दरवाज़े पे खड़ा हुआ था और जाने लगा तो रज़िया- बोली जा रहे हो? मैंने कहा- शहनाज़ को छोड़ के जाने का दिल तो नहीं कर रहा मगर वो तो मुझसे ऐसे […]

नवाजिश-ए-हुस्न-1

On 2013-04-03 Category: कोई मिल गया Tags:

लेखक : अलवी साहब अन्तर्वासना के चाहको आपको प्यार भरा सलाम, नमस्ते ! और अन्तर्वासना की पाठिकाओ, आपके दर-ए-हुस्न पर मेरा अर्ज़-ए-सलाम कबूल हो ! दुनिया-ए-हकीकी में हमारा नाम फ़िरोज़ है, मगर दुनिया-ए-इश्क-मजाज में हमारा नाम ‘अल्वी साहब’ है, हर तलबगार-ए-इश्क और हर साहिबा-ए-हुस्न ने हमें इस लक़ब (पहचान) के साथ ही पहचाना है, हमने […]

Scroll To Top