सलहज की कसी चूत को दिया सन्तान सुख-3

(Salhaj Ki Kasi Chut Ko Diya Santan Sukh- Part 3)

This story is part of a series:

दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी की गैरमौजूदगी में मैंने अपनी सलहज की चूत चुदाई कर डाली. उसने भी मेरे मोटे लंड के मजे लिये. हम दोनों ही एक दूसरे को पाकर खुश हो गये थे. लेकिन जल्दी ही हमारे बिछड़ने का समय भी आ गया. अनीता वापस चली गई.

अब आगे:

मेरी सलहज अनीता की चूत चुदाई करने के बाद मुझे उसकी चूत की ललक लगी रहती थी. मैं अपनी बीवी को चोदते हुए भी अनीता के बारे में ही सोचने लगता था. बीवी भी मेरे इस बदले हुए व्यवहार से खुश हो गई थी क्योंकि हम पति-पत्नी की चुदाई में एक नयापन आ गया था. मगर इसकी वजह अनीता ही थी.

ठीक नौ महीने के बाद अनीता ने एक सुन्दर फूल से बेटे को जन्म दिया. मेरे ससुराल में खुशी का माहौल हो गया. बेटा होने की खुशी में हमें भी न्यौता आया. मैं अपनी बीवी को लेकर अपने ससुराल गया. वहां पर जाने के बाद अनीता के पास गया तो वो मुझे देख कर मुस्कराने लगी.

उसकी खुशी इतनी ज्यादा थी कि वह अपनी आंखों के आंसू छलकने से रोक न सकी. फिर दावत हुई और दो-तीन रुकने के बाद हम लोग वापस अपने घर आ गये. उसके एक साल तक मुझे अनीता से मिलने का मौका नहीं मिला. मगर मेरी बीवी बीच में एक दो बार जरूर गई थी लेकिन मुझे यह अवसर नहीं मिल सका था.

मैं अनीता से मिलने के लिए बेचैन रहने लगा. फिर उसके बेटे के जन्मदिन की दावत रखी गई. उसमें हमारी फैमिली को भी बुलाया गया. मैं पत्नी और बच्चों के साथ अपने ससुराल चला गया. वहां पर जाकर जन्मदिन की पार्टी में हम लोग शरीक हुए.

मौका पाकर अनीता मेरे पास आई और कहने लगी कि आपसे अकेले में मिलना चाहती हूं.
मैंने कहा कि अभी तो सविता (मेरी पत्नी) को शक हो जायेगा. अभी अकेले में मिलना सही नहीं रहेगा. वो बोली कि मुझे आपसे कुछ जरूरी बात करनी है.

मैंने कहा- मैं भी तुमसे मिलने के लिए तड़प रहा हूं. मगर अभी नहीं मिल पायेंगे.
उसके बाद वो चली गई.

फिर मुझे ऑफिस के काम से निकलना था. काम वहीं पास के शहर में था. मैंने सविता को कहा कि वो बच्चों को लेकर घर चली जाये और मैं ऑफिस का काम खत्म करके वापस आ जाऊंगा.

दरअसल मैं अपनी बीवी को वहां से भेजना चाह रहा था क्योंकि उसके रहते अनीता से मेरा मिलन होना संभव नहीं था. मैंने सविता और बच्चों की ट्रेन टिकट रिजर्व करवा दी और उनको घर भेज दिया.

वापस आने के बाद अब मैं और अनीता दोनों ही मौके की तलाश में थे. अगले दिन तक सारे मेहमान वापस चले गये थे. घर में मेरे सास-ससुर और साला ही था. फिर अगले दिन दोपहर के वक्त अनीता मौका देख कर मुझसे मिलने आई.

उसने आते ही मुझे बांहों में भर लिया और मेरे लंड को हाथ से सहलाते हुए बोली- तुम्हारे इस औजार ने मुझे वो सुख दिया है जिसका अहसान मैं कभी नहीं चुका सकती जीजा जी. आपने मुझे औलाद का सुख दे दिया.

मैं उसकी बात सुनकर आश्चर्य में पड़ गया.
मैंने पूछा- तो क्या तुम्हारा बेटा मेरा ही अंश है?
वो बोली- हां. आपका ही है. आपके वहां से आने के बाद ही मुझे गर्भ ठहर गया था.
फिर वो मेरे होंठों को चूमकर बोली- इस खुशी के बदले क्या गिफ्ट दूं आपको?

अनीता की गांड को उसकी कमीज के ऊपर से दबाते हुए ही मैंने कहा- मैं तुम्हारे पिछवाड़े को चोदना चाहता हूं जानेमन.
वो बोली- जीजा जी, पिछवाड़ा क्या, मेरे शरीर में जितने छेद हैं वो सभी आपके ही हैं. जहां मन करे अपने लंड को डाल दीजिये.
हम दोनों में बातें हो ही रही थीं कि उसकी सास ने आवाज दी कि मुन्ना रो रहा है.

वो वापस भाग गई. मैं भी ऑफिस का काम निपटाने के लिए निकलने लगा. मगर अभी अनीता की गांड भी मारनी थी. इसलिए अपनी सास को बोल कर गया था कि काम खत्म करने के बाद आप लोगों को विदा कहने के लिए एक दिन के लिए आऊंगा.
मेरी सास बोली- अरे बेटा, अगर तुम चाहो तो दो दिन रुक ही जाना. इसमें भी क्या सोचना?

मैंने कहा- जी ठीक है. अब मैं चलता हूं.
मैं अपना ऑफिस का काम खत्म करके वापस आ गया. अब मुझे अनीता की गांड की चुदाई का मौका चाहिए था.
घर में कई लोग थे इसलिए हम दोनों बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता थी.

रात को ही सबसे उपयुक्त समय हो सकता था लेकिन रात में अनीता का यानि कि हमारा नन्हा मुन्ना उसको हिलने नहीं देता था. फिर अगले दिन दोपहर के वक्त साले को काम से जाना पड़ गया. वो रात को लौटने वाला था.

अनीता ने आकर मुझे यह बात बता दी थी. लेकिन अभी सास भी बीच में मुसीबत बनी हुई थी. अनीता ने अपना दिमाग लगाया और मुन्ने का बहाना करते हुए बोली- मां जी, लगता है कि मुन्ने को नजर लग गई है. सुबह से ही रोए जा रहा है. चुप ही नहीं हो रहा है.

मेरी सास बोली- कोई बात नहीं, तू चिंता न कर बहू. मैं इसकी नजर उतरवा कर ले आती हूं. लेकिन अभी मेरे घुटने में दर्द हो रहा है. जरा तेल की मालिश कर दे. ताकि मैं चलने लायक हो जाऊं.

अनीता मेरी सास की मालिश करने लगी. कुछ देर मालिश करवाने के बाद उसको आराम आ गया और वो मुन्ने को लेकर चली गई. अब घर में अनीता का ससुर रह गया था जो अपने कमरे में खर्रांटे ले रहा था.

तभी अनीता मेरे पास आई और बोली कि अब सही मौका है.
मैंने आते ही उसके चूचों को दबा दिया और उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया.
वो बोली- अरे .. अरे … दरवाजा तो बंद कर लो. कहीं ससुर जी आ गये तो सारा प्लान धरा रह जायेगा.

हम दोनों ने मेरे वाले कमरे के दरवाजे को बंद कर दिया और एक दूसरे को बांहों में लेकर पागलों की तरह चूमने लगे. अनीता और मैं दोनों ही बहुत दिनों से एक दूसरे के लिए प्यासे थे. मैंने उसकी गांड को कपड़ों के ऊपर से दबाना शुरू कर दिया और वो मेरे लंड को अपने हाथ से मेरी पैंट के ऊपर से दबाने सहलाने लगी.

फिर मैंने उसको वहीं बेड पर पेट के बल लेटा दिया और उसकी पजामी को खोल कर नीचे कर दिया. उसकी गांड को देखा तो मेरी नजर आश्चर्य से फैल गई. उसकी गांड पहले कहीं ज्यादा गुदाज हो गई थी. शायद बच्चा होने के बाद उसकी गांड और मोटी हो गई थी.

मैंने उसकी गांड पर कई चुम्बन दिये और उसकी गांड को मसलने लगा. मेरे चुम्बनों के गांड पर लगने से वो नीचे पड़ी हुई सिसकारने लगी. फिर मैंने अपनी पैंट की चेन को खोल लिया और अपने लंड को अंडरवियर से बाहर निकालते हुए चेन से बाहर निकाल लिया. मेरा लंड तना हुआ उसकी गांड में जाने के लिए तैयार था.

हमने पूरे कपड़े नहीं उतारने का फैसला किया था क्योंकि सासू मां किसी भी वक्त आ सकती थी. मैंने लंड को निकाल कर अनीता की गांड के छेद पर रगड़ा तो मेरी सिसकारी निकल गई. बहुत ही मस्त गांड थी उसकी.

उसके बाद मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और थोड़ा सा थूक अनीता की गांड पर भी मल दिया. उसकी गांड पर थूक लगाने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी गांड के छेद पर लगा दिया. थोड़ा सा धक्का दिया लेकिन लंड का टोपा रत्ती भर भी नहीं सरका.

एक तो अनीता की गांड बहुत टाइट थी और इससे पहले उसने गांड में लंड लिया भी नहीं था. दूसरा कारण ये था कि मेरे लंड का टोपा भी बहुत मोटा था इसलिए लंड जरा भी नहीं सरक पा रहा था.

उसके बाद मैंने अनीता की गांड में लौड़े को टिका कर पूरा जोर लगाया लेकिन लंड बार-बार उसकी गांड के छेद पर से फिसल जा रहा था. मैंने कहा कि ऐसे तो लंड अंदर जा ही नहीं पायेगा.
वो बोली- रुको जीजा जी. मैं तेल लेकर आती हूं. उससे शायद काम बन जाये.

अनीता अपनी पजामी को ऊपर करके कमरे से बाहर गई और अपनी सास के कमरे तेल की शीशी उठा लाई. शीशी से तेल निकाल कर उसने खुद ही अपनी गांड पर लगाया और मैंने भी अपने लंड के टोपे पर तेल से मला.

जब लंड और गांड दोनों ही चिकने हो गये तो मैंने फिर से अनीता की गांड पर लंड को सेट किया और धीरे-धीरे उसकी गांड के छेद को खोलने की कोशिश करने लगा. मेरी सलहज की तरकीब काम आई और लंड अब गांड में रास्ता बनाने लगा था.

मगर जैसे ही लंड हल्का सा आगे सरकता था अनीता जोर से कराह उठती थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’
वो दर्द को बर्दाश्त करने की पूरी कोशिश कर रही थी. मगर लंड मोटा होने की वजह से उससे सहन नहीं हो पा रहा था.

मेरे बदन में भी पसीना आना शुरू हो गया था. मैंने और जोर लगाया और इंच भर लंड अब उसकी गांड में घुस गया. अनीता ने अपना मुंह बेड के गद्दे में दबा लिया ताकि उसकी कराहना कमरे से बाहर न जा सके.

मैं उसके दर्द को समझ सकता था क्योंकि जैसे ही लंड अंदर घुसा उसकी नंगी जांघें कांपने लगी थीं. मगर अब मेरे अंदर उसकी गांड चुदाई करने का जुनून सा सवार हो गया था. मैंने उसकी गांड को थाम लिया और फिर उसके चूतड़ों को अपनी तरफ खींचते हुए एक जोर वाला धक्का लगाया तो आधा लंड उसकी गांड को फाड़ता हुआ घुस गया.

वो दर्द के मारे छटपटाने लगी. लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी. अपने हाथ से इशारा करने लगी कि आगे बढ़ो. मैंने एक बार और जोर लगाया और इस बार पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया. अनीता अपने सिर को बेड में इधर उधर पटकते हुए दर्द को कम करने की कोशिश करने लगी.

उसकी गांड इतनी टाइट थी कि मेरे लंड की चमड़ी जैसे छिल ही जाने वाली थी. लंड में जलन सी होने लगी थी. उसके बाद मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके चूचों को दबाते हुए उसको सामान्य करने की कोशिश करने लगा. जब वो थोड़ी शांत हुई तो मैंने अपनी गांड को उसकी तरफ धकेलते हुए लंड को हरकत देनी शुरू की.

अब मेरा लंड उसकी गांड में फंसा हुआ हल्का हल्का हिलने लगा. फिर दो मिनट के बाद उसकी गांड ने मेरे लंड को कुबूल कर लिया और खुद ही लंड को अपने अंदर आराम से समा लिया. अब मैंने धक्का लगाया तो लंड में गति आने लगी थी.

उसके बाद मैंने उसकी गांड की चुदाई शुरू कर दी. पांच मिनट के बाद चुदाई ने अच्छी तरह रफ्तार पकड़ ली. उसकी गांड में अब मेरा मूसल लंड आराम से अंदर बाहर होने लगा था. फिर मैंने एकदम से लंड को बाहर निकाल दिया और उसको पीठ के बल लेटा दिया.

अपने लंड पर फिर से तेल लगाया और उसकी टांगों को अपने हाथों में पकड़ कर फिर से उसकी गांड में लंड को पेल दिया. वो भी अब मजे से अपनी गांड चुदाई का आनंद लेने लगी. दस मिनट की चुदाई के बाद अब मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी.

एक मिनट के बाद मेरे लंड ने मेरी सलहज की गांड में वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया. मैं उसके ऊपर ही निढाल हो गया. फिर मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और फिर अनीता को भी उठने के लिए कह दिया.

मगर तभी मेन गेट में किसी के आने की आहट हुई.

अनीता जल्दी से उठ कर अपनी पजामी ऊपर करके कमरे से बाहर निकल गई. मैंने भी लंड को अंदर डाल लिया. तभी मेरी सास मुन्ने को लेकर कमरे में दाखिल हुई.

सास को देख कर मेरे चेहरे पर पसीना आने लगा. वैसे भी अभी चुदाई खत्म हुई थी इसलिए मैं अभी तक सामान्य नहीं हो पाया था. उसकी सास ने मेरे चेहरे को देखा और बोली- दामाद जी, आपको बहुत पसीना आ रहा है.
मैंने कहा- हां मां जी, थोड़ी गर्मी लग रही थी.

उसकी सास ने मेरी तरफ आश्चर्य से देखा क्योंकि मौसम में इतनी गर्मी नहीं थी और मेरे चेहरे का पसीना देख कर सास को अचंभा सा हुआ. उसने अनीता को आवाज दी और मेरे लिये पानी लाने के लिए कहा.

अनीता जब पानी लेकर आई तो वह भी कुछ घबराई सी दिख रही थी. फिर वह पानी देकर चली गई. सास ने मुन्ने को अनीता की गोद में दे दिया और वहीं बैठ गई. हम दोनों में कुछ बातें हुईं और फिर वो उठ कर जाने लगी.

जाते हुए मेरी सास की नजर उस तेल की शीशी पर चली गई. अनीता ने तेल की शीशी हड़बड़ाहट में वहीं छोड़ दी थी. यह वही शीशी थी जो वह मेरी सास के कमरे से लेकर आई थी.

मेरी सास ने शीशी को उठा कर देखा और फिर मेरी तरफ देखा. उनकी नजरों में शक साफ नजर आ रहा था मगर वह कुछ नहीं बोली और चुपचाप वहां से निकल गई. फिर मैंने भी वहां पर रुकना ठीक नहीं समझा और मैं सास को अलविदा कह कर वहां से निकल लिया.

उसके बाद अनीता और मेरी मुलाकात नहीं हो पाई. उस घटना के बाद मैंने अपनी ससुराल में रुकना बंद कर दिया. मेरी सास भी कभी मुझे रुकने के लिए नहीं कहती थी क्योंकि उसको शक हो गया था. अब मैं इन्तजार करने लगा कि कभी अगर मेरी सलहज हमारे घर दोबारा आई तो हम कुछ इंजॉय कर पायेंगे.

मुझे अनीता की गांड की चुदाई चस्का लग गया था लेकिन मौका नहीं लग पा रहा था. जब वो हमारे घर आई तो उस दिन मैंने तीन बार उसकी गांड की चुदाई की. वह कहानी मैं आपको फिर कभी बताऊंगा. अभी के लिए कहानी को यहीं विराम दे रहा हूं.

आपको मेरी यह सेक्स स्टोरी कैसी लगी इसके बारे में अपने विचार जरूर व्यक्त करें. आप नीचे दी गई मेल आईडी पर मेल भी कर सकते हैं.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top