चिकनी चाची और उनकी दो बहनों की चुदाई-4

(Chikni Chachi Aur Unki Do Bahano Ki Chudai- Part 4)

This story is part of a series:


मैं आप सबका दोस्त जीशान इस सच्ची घटना का आज मैं चौथा भाग लेकर आया हूँ. इस भाग में सब पाठिकाओं की चुत पानी छोड़ने वाली है और सब पाठकों के लंड पानी छोड़ने वाले हैं.

अब तक आपने पढ़ा कि मैं चाचीजान को अपने फ़ार्म हाउस पर ले आया था. उनको नंगी करके उनके साथ पूल में मस्ती की और इसके बाद सबसे पहले चाची की चूत की झांटें साफ़ कीं. इसके बाद उनके ऊपर शहद डाल कर चुसाई का मजा लेने लगा.
अब आगे:

चाची- कैसे नए नए तरीके ढूंढ कर लाया है मादरचोद … और कितने मज़े देगा.
चाची ज़ोर ज़ोर से चीखने लगीं. उनकी आवाज से मैं और उत्तेजित हो रहा था. मैं और ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा.

अब तक चाची सब मज़े ले रही थीं. अब मेरी बारी थी. मैं लंड लेकर चाची के मुँह के पास चला गया.

चाची- मैंने साफ मना कर दिया था. ये मुझसे नहीं होगा.
मैं- इसी लिए तो चॉकलेट और हनी है.
चाची- मुझसे नहीं होगा.
मैं- अभी तक तो इतने मज़े ले लिए, लेकिन मुझे मज़े नहीं दोगी?
चाची- तुझे जो मज़े लेना है ले ले, लेकिन ये नहीं होगा मुझसे.
मैं- मुझे ये ही चाहिए. एक बार ट्राय तो कीजिये … अगर आपको पसंद नहीं आएगा, तो नहीं करेंगे.
चाची- सिर्फ एक बार करूँगी, मुझे अच्छा नहीं लगा, तो नहीं करूंगी.

मैं लंड उनके मुँह के ऊपर रखने लगा. चाची मेरे लंड को झट से हटा दिया और चॉकलेट सीरप को लंड के ऊपर डालने लगीं … फिर धीरे से लंड को एक बार मुँह में ले लिया.
चाची- मुझसे नहीं होगा जीशान, छोड़ दे.

ये बात सुनते ही मुझे थोड़ा गुस्सा आया. मैं चाची के मुँह को जोर से चोदने लगा.
उनकी चीख मुँह में लंड होने के कारण अन्दर ही रुक गयी ‘आआंमम्म..’
मैं रुका ही नहीं और ज़ोर से लंड को अन्दर तक डालने लगा.

करीब दो मिनट उनके मुँह को चोदने के बाद मैं लंड बाहर निकालने लगा. चाची अब ऊपर उठ गईं और मुझे मारने लगीं- साले चूतिये … तुझे मैंने अपनी चुत दी, मेरा सब कुछ दिया, फिर भी तू मुझे रंडी की तरह मेरा मुँह चोदने लगा … रानी बोल रहा था. आखिर रंडी ही बनाया मुझे. मेरे पति ने मुझे आज तक सेक्स के लिए फ़ोर्स नहीं किया और तू मुझसे ये सब करवा रहा है.
मैं- आपने तो अपने मज़े ले लिए … बदले में मुझे मज़े नहीं दोगी? तुम मेरी जान हो, मुझे जो चाहिए वो मैं करूँगा.

मैं चाची पर आक्रमण करने लगा और उन्हें नीचे गिरा कर अपना लंड उनकी चुत के ऊपर रख दिया.
चाची अभी भी गुस्सा थीं.
मैं- लंड नहीं चाहिए? ये सब ज़िन्दगी के मज़े हैं … मज़े लेने दो और मज़े ले लो.

चाची तना हुआ लंड देख कर मान गईं. मैं लंड चुत के ऊपर रगड़ने लगा.
चाची- अब अन्दर भी डाल भोसड़ी के, तेरे लंड की आरती उतारूं क्या?

मैंने बिना देर किए लंड को एक झटके में अन्दर डाल दिया. इस तेज झटके में मेरा पूरा लंड अन्दर घुस गया था, चाची कांप उठीं और दर्द से चिल्लाने लगीं- आआआह मैं मर गयी … ये गधे का लंड मेरी चुत फाड़ कर ही दम लेगा.

मैं हंसते हुए ज़ोर ज़ोर से चूत धक्के मारने लगा. चाची मस्ती से चीखने लगीं, चुदाई के मज़े लेने लगीं. चाची आज इस सुनसान जगह में बेखौफ होकर अजीब अजीब तरह की तेज आवाज में सिसकारियां लेने लगीं- आआह … यस … मररर गईई … ऊम्म … तेरा बहुत बड़ा लंड है … मादरचोद … बच्चेदानी तक ठोकर मार रहा है उम्म्ह… अहह… हय… याह…

कोई 5 मिनट की चुदाई के बाद मैंने लंड बाहर निकाल दिया.
चाची- अरे क्या हुआ?
मैं- एक ही पोजीशन में कितनी देर तक चोदूं … अब ऊपर उठो.

मैंने चाची को ऊपर उठाया और उन्हें पेड़ के सहारे खड़े होने का बोला. चाची पेड़ को पकड़ कर खड़ी होने लगीं. मैं धीरे से पीछे से अपना लंड चाची के भोसड़े में डालने लगा. मैंने निशाना लगाकर एक ज़ोर से धक्का दे मारा. ज़ोर के धक्के की वजह से चाची नीचे गिर गईं. लंड जो अन्दर गया था, वो भी बाहर निकल गया.

चाची- मार ही देगा मुझे? क्या खाता है, इतनी ताकत है तेरे में … साले सांड.
मैं- तुम पेड़ को ज़ोर से पकड़ो.

मैंने फिर से कोशिश की, एक और ज़ोर का धक्का दे मारा. इस बार मेरा पूरा लंड अन्दर घुस गया, चाची की चुत को चीरते हुए लंड अन्दर चला गया.
चाची चीखते हुए चुदाई के मज़े ले रही थीं- आआह ऊऊम्म … और ज़ोर से कर, मुझे पूरी तरह से शांत कर दे … आह.

मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के मार रहा था. इस वक्त मैंने उनका एक पैर ऊपर करके अपने एक हाथ में पकड़ लिया था. इसकी वजह से लंड और अन्दर जाने लगा.

चाची- मुझे तो खिलौना बना लिया तूने, आह चोद दे … जैसे चाहे वैसे इस्तेमाल कर ले … मेरा … आआआह ऊऊम्म मेरी चुत को भोसड़ा बना दिया … साले मादरचोद.
मैं- साली रंडी कितना चीखेगी, गला फट जाएगा मादरचोदी.

ये बात सुनते ही चाची हैरान हो गईं, मैं पहली बार उनको गाली दे रहा था. मैं और उत्तेजित होकर उनके चूतड़ों पर थप्पड़ मारने लगा.

चाची- थप्पड़ क्यों मार रहा है … और साले अपनी चाची को गाली दे रहा है … भैन के लौड़े शर्म नहीं आती तुझे.
मैं- साली कुतिया … लंड खा … मुझे कोई शर्म-वर्म नहीं आती है.

मैं और जोर से चुदाई करते हुए चाची के चूतड़ों पर थप्पड़ मारने लगा, उनके चूतड़ एकदम लाल हो गए थे.

ज़ोरदार 10 मिनट चुदाई के बाद मैं उनकी चुत में ही झड़ गया और मैं उनके ऊपर गिर गया. चाची भी नीचे गिर गईं और उन्होंने मुझे धक्का मार कर अलग कर दिया.

चाची- चल हट मादरचोद … इतना बड़ा लंड है, इतना दर्द होता है … उसके ऊपर तू मुझे मार भी रहा है.
मैं- जितना ज्यादा दर्द, उतना ज्यादा मज़ा.
चाची- तुझे तो दर्द नहीं हो रहा न … तू तो कुछ भी बोलेगा … यहां मेरी जान जा रही है.
मैं- सॉरी चाची … इस बार तुम मुझे दर्द दे देना.
चाची- नहीं रहने दे, तू तो मेरा आशिक़ है … तुझे जैसा मन करता है, वैसे कर ले, मैं तो तेरी हूँ. … और तू मेरी चुत की आग को ठंडा कर रहा है.

हम दोनों किस करने लगे.

चाची- और ये तेल किस लिए मंगवाया है.
मैं- ये मैं रात को बताऊंगा.
चाची- रात का रात को देखेंगे, पहले खाना तो खा ले … भूख लगी है मुझे.

दिन के 3 बज चुके थे. टिफिन में जो खाना लाये थे हम दोनों खाने लगे, मस्त बिरयानी बनी थी. हम दोनों एक दूसरे को प्यार से खिलाने लगे. मैं वो दिन याद करने लगा, जब मैं हर दिन चाची के हाथ से खाना खाता था.

चाची- मेरे हाथ से खाना खा रहा था … और अब मेरी चुत मार रहा है. वाह बेटा वाह … अगर ये बात किसी को पता चलेगी, तो मेरी और तुम्हारी कितनी बदनामी होगी.
मैं- किसी को पता नहीं चलेगा.

हम दोनों खाना खाने के बाद, एक दूसरे के बांहों में सोने लगे. हम दोनों एकदम नंगे पड़े थे. करीब 4 घंटे तक हम दोनों खूब चैन की नींद सोये.

बाद में चाची मुझे चूमते हुए उठाने लगीं- चलो अन्दर कमरे में चलते हैं.
मैं- ठीक है.
हम दोनों सब सामान लेकर फार्म हाउस के कमरे में चले गए.

मैंने फ़ोन चैक किया, तो चाचा के कई फ़ोन आए हुए थे. मैंने चाचा को फ़ोन लगाया, तो चाचा पूछने लगे कि अभी तक घर क्यों नहीं आए.
मैं बोला- गाड़ी पंक्चर हो गई है और काम वाले नहीं आए हैं.

चाचा बोले- वहीं पे सो जाओ, सुबह मैं गाड़ी भेजता हूँ.

फिर वो चाची से बात करने लगे. जीशान के लिए खाने के लिए कुछ बना दो. भूखे मत सोने देना.
चाची बोलीं- हम चिकन लाए हुए हैं. जीशान ग्रिल चिकन बनाने को बोल रहा है. हम वही बना कर खाएंगे.

चाचा से बात खत्म हुई.

रात को ग्रिल चिकन बना कर खाया. इसके बाद मैंने ऊपर छत पर सोने के लिए बोला. चाची और मैंने ऊपर छत पर बिस्तर लगा दिए. इस वक्त चाची ब्रा और पैंटी में थीं और मैंने अंडरवियर पहना हुआ था. छत पर बड़ी ठंडी हवा चल रही थी और चांद का उजाला था. चाची शहद, चॉकलेट और तेल ऊपर लेकर आयी थीं.

हम दोनों सेक्स की बातें करने लगे.

मैं- चाची आप अपनी दोनों बहनों से मुझे कब चुदाई का मजा दिलवाओगी.
चाची- ये सब मुझसे नहीं होगा बाबा. तू उनको भूल जा.

मैंने कुछ जवाब नहीं दिया. जवाब तो मैं चुदाई में दूंगा. रात के दस बज गए थे. अब कामक्रीड़ा शुरू होने वाली थी. मैंने चाची को नंगी कर दिया, उनकी ब्रा और पैंटी को निकाल दिया. चाची भी मेरे अंडरवियर को निकाल कर लंड सहलाने लगीं. मैंने ढेर सारा तेल उनकी बॉडी पे डाल दिया. अपने हाथों चाची के शरीर पर हर जगह मम्मों पर, गांड के छेद पर, चूतड़ों पर, पेट पर पीठ पे, जांघों पर मतलब सब जगह तेल मल दिया.

चाची- इतना तेल क्यों?
मैं- आपकी मसाज करने के लिए … आप भी मुझे तेल लगा कर मालिश कर देना.

चाची मेरे पूरे बदन पर तेल लगाने लगीं. वे लंड पर भी तेल डाल कर मुठ मारने लगीं, तो मैं मना कर दिया.

हम दोनों एक दूसरे के शरीर को करीब आधा घंटे तक मसाज करते रहे. चांदनी रात छत के ऊपर चाची का बदन तेल में चमक रहा था और मेरा लंड भी चमक रहा था.

मैं- चाची आपके बदन में मुझे सबसे पसंद आने वाली जगह कौन सी है? पता है आपको?
चाची- नहीं..! तू ही बता दे!
मैं- ये मोटे मोटे चूचे और बड़ी सी गांड.
चाची- अरे यार इतनी भी बड़ी नहीं है. मेरी दीदियों की गांड मेरी गांड से भी बड़ी हैं और उनके मम्मे भी बड़े हैं.
मैं- इसीलिए तो मैं उन्हें चोदना चाह रहा हूँ. आप चिंता न करो आपकी गांड भी बड़ी हो जाएगी.
चाची- वो कैसे?

मैंने चाची की पूरी गांड को तेल से भर दिया. इससे चाची समझ गईं कि गांड का फीता काटने वाला है.
चाची- इधर दर्द नहीं होगा ना?
मैं- थोड़ा होगा … फिर मज़ा आएगा.
चाची- ध्यान से मारना, कहीं मेरी गांड फट न जाए.

मैंने चाची को डॉगी पोजीशन में बैठाया और मैं पीछे से लंड को गांड के निशाने पर रख कर धक्का मारा. लेकिन लंड अन्दर नहीं गया, फिसल गया. मैंने 3-4 बार कोशिश की, मगर खेल नहीं हुआ.

फिर मैंने चाची से अपने दोनों हाथों से गांड को फाड़ कर पकड़ने को बोला. चाची ने दोनों चूतड़ों को अपने हाथों से फैलाया जिससे चाची की गांड का छेद थोड़ा दिखने लगा था.

मैंने लंड का सुपारा छेद पर टिकाया और इस बार एक ज़ोर का धक्का मार दिया. लंड का टोपा अन्दर घुस गया. चाची दर्द से तड़पने लगीं. उन्होंने अपने दोनों हाथों को दर्द के चलते आगे कर दिए और दूर होने लगीं. मैंने तुरंत अपने हाथों से उन्हें पकड़ लिया. चाची इतना ज़ोर से चीखीं कि पूरा फार्म हाउस गूंजने लगा.

चाची- प्लीज बाहर निकाल दे लंड, मैं मर जाऊँगी प्लीज … मैं तेरा लंड भी चूस लूँगी लेकिन ये गांड चुदाई … आह नहीं होगी मुझसे … निकाल प्लीज.

अगर मैंने अभी लंड निकाल दिया, तो चाची की गांड जीवन में कभी नहीं मिलने वाली थी. मैंने उनके मम्मों को सहलाते हुए एक और धक्का दे दिया, मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. चाची ऊपर उठने की कोशिश कर रही थीं. लेकिन मैंने उन्हें पकड़ा हुआ था. चाची की आंखों में आंसू आने लगे.

चाची- छोड़ दे बेटा मुझे प्लीज. मैं मर जाउंगी. मुझसे नहीं होगा ये. आआआह … ऊफ … कोई बचाओ मुझे इस गधे के लंड से … मादरचोद छोड़ दे!
मैंने एक और धक्का दे दिया, अब मेरा पूरा लंड गांड के अन्दर था. चाची की गांड फट गई थी.

चाची- आह मेरी गांड फट गई … हरामी … छोड़ दे सुअर के चोदे … ऊह … आआआह. मेरे पर तुझे रहम भी नहीं आई साले … भड़वे … मादरचोद … तेरी माँ को चोदूं हरामी … विदेशियों के साथ रह कर ये सब सीख कर आया भैनचोद … तेरी पत्नी तो तेरे को हाथ मारेगी … आआह ऊऊह..

मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा. मुझे चाची की चीखों से मजा आ रहा था- अब बोल चाची भैन की लौड़ी … अपनी दोनों बहनों की चूत मुझको कब दिलाओगी.
चाची- मेरी गांड का ये हाल कर दिया. भोसड़ी के, अब उनकी चूत और गांड का भी ऐसा ही हाल करेगा, मैं होने नहीं दूंगी.

मैंने ज़ोर से धक्का मारा और लंड कप गांड की जड़ तक पहुंचा दिया.

चाची- अच्छा मदद करूँगी … दोनों की चुत गांड दिलाऊंगी … तू धीरे कर प्लीज.

आखिर चाची मान गईं. मैं धीरे धीरे उनकी गांड मारने लगा. अभी मैं चाची की गांड में लंड पेले हुए उनकी चुत को भी सहला रहा था, इसकी वजह से उन्हें दर्द कम हो गया. चाची गांड मरवाने का थोड़ा मजा लेने लगीं. कोई 15 मिनट गांड चुदाई के बाद मैं चाची की गांड में ही झड़ गया. मेरी ‘आआआह..’ निकल गई और लंड को बाहर निकाल दिया.

चाची- आह मैं आज एक गधे के लंड से चुदी … तेरे को सौ सलाम … मगर अगली बार मैं तुझे मिलूंगी ही नहीं.
मैं- ऐसे कैसे जाने दूंगा मैं … और तुम भी मुझे छोड़कर जा नहीं सकती, अब तो आपको भी मेरे लंड की सख्त ज़रूरत है.
चाची- वो तो है … लेकिन ऐसे कुतिया बन कर चुदना … मुझसे नहीं होगा. मैं उंगली करके शांत हो जाउंगी, लेकिन ऐसे नहीं.

मैं उनको समझाने लगा. कुछ देर में सब नार्मल हो गया. हम दोनों थक गए थे, इसलिए जल्दी सो गए.

अचानक मेरी नींद में खलल हो गयी. उस वक्त सुबह के करीब 4 बजे होंगे. मैंने देखा कि चाची मेरा बदन चूम रही थीं और मेरे ऊपर चढ़ी जा रही थीं.

मैं- इतनी शानदार चुदाई के बाद भी आप मूड में आ गईं चाची … कैसे?
चाची- तुमने तो गांड मारी है … चुत कैसे ठंडी होगी … आग लगी है अन्दर.
मैं- लेकिन अब मुझसे नहीं होगा. मैं पूरा थक गया हूं.
चाची- तुम सो जाओ, मैं ही खुद कर लूंगी.

चाची ने काफी सारा शहद मेरे ऊपर डाल दिया और मुझे चाटने लगीं. मुझे मज़ा आने लगा. इस बार चाची की हरकतें देख कर मैं हैरान हो गया. चाची खुद चॉकलेट डाल कर मेरा लंड चूसने लगीं.

मैं- चाची ये क्या कर रही हो? आपको तो लंड चूसना पसंद नहीं है.
चाची- कभी कभी कुछ पाने के लिए करना पड़ता है. वैसे अब आदत हो गयी है तेरे लंड की. मैं भी मज़े ले रही हूँ.
मैं- वाह रे चाची.

चाची के लंड चूसने की वजह से लंड खड़ा हो गया और चाची लंड के ऊपर बैठ गईं. एक दो पल के बाद चाची लंड पर नीचे ऊपर बैठने लगीं. मुझको मज़ा आ रहा था. पहली बार चाची मुझे चोद रही थीं.

मैं- और ज़ोर से करो चाची … वाओ कितने मस्त झटके दे रही हो … आआआआह!
चाची- अब तू चुपचाप मज़े ले मादरचोद, चाचीचोद.

दस मिनट चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था. मैंने चाची को पकड़ कर अपने नीचे लिया और मैं ऊपर चढ़ के ज़ोर ज़ोर से चाची को चोदने लगा.

चाची- आह अब आया मजा … मैं कितना भी चुद लूँ … मगर अभी जो तू चोद रहा है … उसके बराबर कोई मजा नहीं है.

कोई 5 मिनट तक और ज़ोर ज़ोर के धक्कों के बाद चाची एक ज़ोर चीख मारते हुए झड़ गईं.

चाची- वाओ हर एक चुदाई से दूसरी चुदाई में और ज़्यादा मज़ा आने लगा है.
इसके बाद मैं भी झड़ गया.

चाची- अगले हफ्ते बड़ी दीदी परवीन को अकेली घर बुलाऊंगी, तू आ जाना.
मैं- थैंक्यू सो मच चाची … आप दुनिया में सबसे बेस्ट चाची हो.
चाची- मैं मेरी बात निभा रही हूँ. तू अपनी निभा, हर हफ्ते मुझे आकर चोदना.

फिर चाची रेडी हो गईं, कुछ देर बाद चाचा को आना था. उनका फोन आ गया था. वे आए और चाची को घर ले गए. मैं अगले हफ्ते का इंतज़ार करने लगा और प्लान बनाने लगा.

कहानी जारी रहेगी. अगले भाग में चाची की बड़ी बहन परवीन आंटी को कैसे पटाया और कैसे चोदा … ये सब जानिए.

आपके कमेंट्स और सजेशन ईमेल और इंस्टाग्राम पे बताईये [email protected]
Instagram: @handsome_hunk2307
चुदाई की कहानी जारी है.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top