Sex Stories Archive for March, 2010

मुझे इसी की जरूरत थी

On 2010-03-31 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राज मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मैंने अन्तर्वासना पर लगभग सभी कहानियाँ पढ़ी हैं। मुझे भी अपनी कहानी अन्तर्वासना पर लिखने का मन किया तो मैं अपनी कहानी आप लोगों को बता रहा हूँ जो मेरी एक सच्ची कहानी है और आशा करता हूँ कि मेरी यह आपबीती आपको पसंद आएगी। तो […]

छोटी साली के बाद रूपा-2

On 2010-03-29 Category: नौकर-नौकरानी Tags:

लेखक : वीरेंदर उसके मम्मों को दबाते दबाते पीठ पर हाथ फेरते फेरते मैं नीचे आया, धीरे से उसकी सलवार का नाड़ा खींच दिया। “हाय ! यह क्या किया? वापस बाँध दो, वरना आपके हाथ छोड़ते ही यह नीचे गिर जायेगी।” “कौन है यहाँ तीसरा? मैं ही तो हूँ तेरा साईं दीवाना ! पूरी जिंदगी […]

छोटी साली के बाद रूपा-1

On 2010-03-28 Category: नौकर-नौकरानी Tags:

लेखक : वीरेंदर प्रिय पाठको, आपने मेरी कहानियाँ पढ़ी। अब इस कहानी को पढ़ने से पहले मैं आपको याद दिला दूँ कि मेरी बीवी ने कामवाली माया की बेटी रूपा को घर के काम के लिए रख लिया था। एक रात मेरी छोटी साली ने मेरी बीवी को दवाई के सहारे सुला दिया और हम […]

पहला सच्चा प्यार-3

On 2010-03-27 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राजीव मैंने कहा- ठीक है जैसा तुम कहो, लेकिन फिर कब मिलोगी? और मैं जवाब के इन्तजार में उतावला हो रहा था, हर सेकंड ऐसे लग रहा था जैसे सदियाँ गुजर रही हों और जैसे ही मैंने जवाब सुना तो मेरी बांछें खिल उठी। नीतू बोली- मैं कल सुबह तुमसे दस बजे मिलूँगी […]

पहला सच्चा प्यार-2

On 2010-03-26 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राजीव मेरा और आगे नियमित पढ़ने का मन नहीं तो मैंने पारिवारिक व्यवसाय में काम करना शुरू कर दिया और उसके एक साल बाद ही नीतू की शादी हो गई और कुछ सालो बाद मेरी भी शादी हो गई। मैं अपने जीवन में मस्त हो गया और नीतू उसके जीवन में मस्त थी। […]

पहला सच्चा प्यार-1

On 2010-03-25 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : राजीव सभी दोस्तों को नमस्ते ! मेरा नाम राजीव है, मेरे दोस्त मुझे राज भी कहते हैं और आज मैं आपके साथ मेरे एक ऐसे अनुभव को बाँटना चाहता हूँ जो असल में मेरा पहला प्यार था लेकिन वो अधूरा ही रहा था। मेरे और भी कई अनुभव हैं जो मैं बाद में […]

अवनी मौसी-2

On 2010-03-24 Category: चाची की चुदाई Tags:

प्रेषिका : निशा भागवत कुछ देर तो वो दोनों बतियाते रहे, फिर बस एक जगह रुक गई। समय देखा तो रात के ठीक बारह बज रहे थे। ‘बस यहां आधे घण्टे रुकेगी, चाय, पानी पेशाब नाश्ता खाना … के लिये आ जाओ।’ बाहर होटल वाला अपनी बुलंद आवाज में पुकार रहा था। ‘चलो, क्या पियोगे […]

खेल खेल में भैया से चुदवाया

मुझे चुदाये हुए काफ़ी दिन हो गये थे। मेरा निशाना अब मेरा भाई था। अचानक ही वो मुझे सेक्सी लगने लगा था। घर पर पज़ामें में उसका झूलता लण्ड मुझे उसकी ओर आकर्षित करता था।

अवनी मौसी-1

On 2010-03-23 Category: चाची की चुदाई Tags:

प्रेषिका : निशा भागवत अवनी मौसी अभी कोई पैंतीस वर्ष की होगी। उसने प्यार में धोखा खाने के बाद शादी नहीं की थी। उसके प्रेमी राजेश ने उसे अपने प्यार के जाल में फ़ंसाने के बाद अवनी को दो साल तक जी भर कर चोदा था, गाण्ड तो भी उसने अवनी की खूब मारी थी। […]

होली के नशे में

विजय अग्रवाल, दिल्ली हम पांच दोस्त हैं, सभी शादीशुदा। मैं विजय और मेरी पत्नी मानसी, गपिल और अंशु, विकास और आरुशी, सजल और मनु, अजय और नीतू। हम सभी के परिवार आपस में दोस्ताना हैं और अक्सर साथ साथ बैठ कर दारू पीते हैं, हमारी बीवियाँ भी दारू पीती हैं। हम लोग साल में एक […]

सुहागरात की विधि -3

सुहागरात के समय लड़कीको संकोच होता है। वह आकांक्षा और आशंका से जूझ रही होती है। पुरुष को चाहिए कि वह उसे दिलासा दे, उसका साहस बढ़ाये तथा उसे आश्वस्त करे

सुहागरात की विधि -2

सम्भोग का उद्देश्य है... पुरुष के लिंग का स्त्री की योनि में प्रवेश और ज्यादा देर मैथुन करना। इसके लिए लिंग और योनि को सम्भोग के लिए तैयार होना चाहिए।

सुहागरात की विधि -1

इस लेख में कुँवारी लड़की के साथ पहली बार सम्पूर्ण सम्भोग की विधि बताई है। इसे हिन्दी में कौमार्य-भंग, योनिछेदन, सील तोड़ना व अंग्रेज़ी में Deflowering कहते हैं।

मनोरमा और शिवाली

प्रेषक : हैरी बवेजा हेलो दोस्तो, हैरी का नमस्कार ! कैसे हैं आप? सबके बहुत मेल मिलते हैं उसका बहुत बहुत शुक्रिया। आज आपको एक कहानी बताने जा रहा हूँ, यह कहानी दो सहेलियों की है एक का नाम शिवाली जिसकी उम्र 32 और चूचियाँ 36 की कमर 34 की और दूसरी का नाम मनोरमा […]

स्कूल की सजा का मज़ा-2

'आंटी मैं तुम्हारा अरमान पूरा कर सकता हूँ।' मैंने थोड़ा डरते हुए कहा। चम्पा का मुँह खुला का खुला रह गया। मैंने भी थोड़ी हिम्मत करते हुए आगे बढ़ कर अपने होंठ चम्पा के होंठों से मिला दिए।

स्कूल की सजा का मज़ा-1

कैसे हो दोस्तो ! मैं राज एक बार फिर से आप सबके लिए एक मज़ेदार कहानी लेकर आया हूँ। यह कहानी तब की है जब मैं स्कूल में पढ़ता था और नया नया जवान हुआ था। शरारती तो मैं बचपन से ही हूँ। वैसे बच्चे होते ही शरारती हैं क्यूंकि वो रात को उनके माँ […]

दिल अटका अटका सा-2

On 2010-03-13 Category: चुदाई की कहानी Tags:

लेखिका : कामिनी सक्सेना नेहा के हाथों की गति तेज होती जा रही थी… और फिर स्पर्श ने एक तेज चीख सी निकाली और उसके लण्ड ने जोर से पिचकारी छोड़ दी। नेहा तो जानती ही थी यह सब… उसने लपक कर नल से अपना मुख लगा लिया और उसका पानी पीने लगी। “निकालो… और […]

दिल अटका अटका सा-1

On 2010-03-12 Category: चुदाई की कहानी Tags:

लेखिका : कामिनी सक्सेना यह कहानी नेहा वर्मा की एक सच्ची कहानी है, जिसे उन्होंने मुझे लिखने को कहा है। यह एक साधारण सी कहानी है जो किसी की जिन्दगी में भी घट सकती है। बस मैं इसे सजा कर आपके सामने प्रस्तुत कर रही हूँ। नेहा और सुनील पति पत्नी है। उनकी शादी हुये […]

कॉलेज़ के गबरू

On 2010-03-11 Category: कोई मिल गया Tags:

हैलो दोस्तो, मेरी तरफ से आपको नमस्कार, आपने मेरी सभी कहानियाँ पसंद की उसके लिए मैं आपका धन्यवाद करती हूँ। आप मेरे बारे में जानते हो मगर फिर भी अपने नए दोस्तों को अपने बारे में बताना चाहूँगी। मेरे पति आर्मी में हैं और मैं अपनी सास और ससुर के साथ जालंधर के पास एक […]

Scroll To Top