Sex Stories Archive for April, 2009

अतुलित आनन्द-2

On 2009-04-30 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : फ़ोटो क्लिकर हमने एक दूसरे को देखा, अब आँखों ही आँखों में बातें होने लगी। उन्होंने मेरे हाथ पर अपनी हाथ रख दिया मैंने भी उनके हाथ को धीरे से दबाया, अब हम दोनों मस्त हो रहे थे। मुझे लगने लगा कि क्या यह मस्त चीज मेरे ही लिये है? अगर हाँ तो […]

अतुलित आनन्द-1

On 2009-04-29 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : फ़ोटो क्लिकर दोस्तो, मेरा नाम क्या है या है भी कि नहीं, इससे कुछ फ़र्क पड़ता ! किस्सा क्या है यह ज्यादा मायने रखता है। प्रेम किसी को भी किसी से भी हो सकता है, और जब हो जाये तो दुनिया रंगीन, जिन्दगी हसीन लगने लगती है, यह सिर्फ़ सुना था पर महसूस […]

एनिमेशन क्लास

On 2009-04-28 Category: चुदाई की कहानी Tags:

प्रेषक : शंकर आचार्य मेरा नाम शंकर है, बंगलोर में जॉब करता हूँ। आज आपको मैं अपनी पहली चुदाई की कहानी बता रहा हूँ। जब मैं इंस्टिट्यूट में था तो मेरे साथ एक लड़की पढ़ती थी, उसका नाम है निशा। बिल्कुल मस्त माल है। उसकी उम्र 19 साल थी जब मैंने उसे चोदा था। तो […]

जीजू ने बहुत रुलाया-3

On 2009-04-27 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

प्रेषिका : मेघना सिंह मुझे उत्तेजना की वजह से पेशाब जाने की इच्छा होने लगी, मैं बोली- जीजू, पेशाब लगा है। जीजू बोले- अब तुम्हारी चूत पूरी तरह गीली हो चुकी है। तुम चाहे न मानो, लेकिन तुम्हारी चूत चुदने को तैयार है। मैं गिड़गिड़ाई- नहीं जीजू ! तकलीफ़ हो जायेगी मुझे ! मैं उनसे […]

जीजू ने बहुत रुलाया-2

On 2009-04-26 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

प्रेषिका : मेघना सिंह दिनभर मैं घर पर अकेली रहती थी। मैं स्कर्ट पहनती थी। जब अकेली हो जाती थी तो चड्डी उतार देती थी। अपनी चूत को उँगली से छेड़ती रहती थी। एक दिन मैं पता नहीं कैसे दरवाजा बंद करना भूल गई। मेरी आँख लग गई। शायद जीजू अन्दर आये होंगे। पता नहीं […]

अब करो मेरा काम !

अंजू ने पतली सी नाईटी पहन रखी थी! बाहर से ही उसके मोटे चूचे दिख रहे थे और गुलाबी चूत पर एक भी बाल नहीं! उसने पूरी तैयारी की थी चूत चुदवाने की! लग रहा था जैसे आज ही बाल साफ़ किए हैं।

वो लाइन देती थी

On 2009-04-23 Category: पड़ोसी Tags:

मेरा नाम दीपक, कोटा राजस्थान से 28 साल का हूँ। मेरा लंड नौ इंच का है, न जाने कितनी चूत चोद चुका हूँ। मैं अन्तर्वासना का पिछले एक वर्ष से नियमित पाठक हूँ। मैंने यहाँ बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं। मैं भी आप सबसे अपना अनुभव बांटना चाहता हूँ। मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती […]

जरा ठीक से बैठो-3

On 2009-04-22 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : हरेश जोगनी बड़ा अजीब नज़ारा था, दो गेंद जो मुश्किल से उस कपड़े से बंधे थे, वो उछल कर राजेश के हाथ में आ गए। फिर मैंने भी उसकी पैंट उतारी और पैंटी भी उतारी। अब उसकी गोल गोल गोरी गाण्ड भी हमारे हाथों में थी। मस्त मुलायम मक्खन जैसी गाण्ड थी, मैंने […]

जरा ठीक से बैठो-2

On 2009-04-21 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : हरेश जोगनी हम दोनों थक चुके थे उस स्थिति में कोई भी सेक्सी औरत आती तो भी लौड़ा उठ नहीं पाता। हम दो घंटे एक दूसरे की बाहों में हाथ डाल कर मियां-बीवी की तरह सो गए। शाम के सात बजे हम उठे और फिर बाहर घूमने की योजना बनाने लगे। मैं- राजेश, […]

जरा ठीक से बैठो-1

प्रिय पाठको, हरेश जी का एक बार फ़िर नमस्कार ! आपने मेरी लिखी एक लम्बी कहानी मुझे रण्डी बनना है पढ़ी ही होगी। और एक सच्ची कहानी के द्वारा आपके सामने आया हूँ। मेरा प्रवास कम ही होता है पर जब भी होता है वो यादगार बन जाता है। यह घटना एक साल पहले घटी […]

बेचैन निगाहें-2

On 2009-04-19 Category: चुदाई की कहानी Tags:

बेचैन निगाहें-1 जैसे ही मैंने दरवाजा खोला तो दिल धक से रह गया। संजय सामने खड़ा था। मेरा दिल जैसे बैठने सा लगा। ‘अरे मुझे बुला कर कहाँ जा रही हो?’ ‘क्… क… कहाँ भला… कही नहीं… मैं तो… मैं तो…’ मैं बदहवास सी हो उठी थी। ‘ओ के, मैं कभी कभी आ जाऊँगा… चलता […]

बेचैन निगाहें-1

On 2009-04-18 Category: चुदाई की कहानी Tags:

मेरी शादी हुए दो साल हो चुके हैं। मेरी पढ़ाई बीच में ही रुक गई थी। मेरे पति बहुत ही अच्छे हैं, वो मेरी हर इच्छा को ध्यान में रखते हैं। मेरी पढ़ाई की इच्छा के कारण मेरे पति ने मुझे कॉलेज में फिर से प्रवेश दिला दिया था। उन्हें मेरे वास्तविक इरादों का पता […]

चरित्र बदलाव-7

शायद ज्योति ने उससे पहले कभी गाण्ड नहीं मरवाई थी, मगर मैंने उसकी एक भी ना सुनी और उसके दोनों चूतड़ों के बीच में अपना लण्ड घुसाने लगा.

चरित्र बदलाव-6

मैंने मोबाइल निकाला और हमारे सेक्स की वीडियो बना ली ताकि आयशा आगे कभी अपनी चुदवाने से मना ना करे! चूत मरवाने के बाद आयशा थक कर बिस्तर पर लेट गई.

चरित्र बदलाव-5

ज्योति अपने बिस्तर पर सिर्फ ब्रा-पेंटी में सो रही थी जिसे देख कर मेरा लण्ड खड़ा हो गया मगर मैंने अपने ऊपर काबू करते हुए वहाँ से चल दिया और सो गया.

चरित्र बदलाव-4

मैंने भाभी को बिस्तर पर पटक दिया और अपना मुँह उनके स्तनों में गड़ा कर स्तनपान करने लगा. मेरे स्तनपान करने के कारण भाभी धीमी धीमी सिसकारियाँ लेने लगी

फ़ौजी फ़ौज़ में हम मौज़ में-2

लेखक :कबीर शर्मा मैंने हिम्मत क़रके भाभी से कह दिया- भाभी, मुझे आप बहुत अच्छी लगती हो ! भाभी मेरी तरफ देखने लगी ! मैं डरा हुआ था, मैंने पहले किसी को ऐसी बात नहीं कही थी, मेरी धड़कन बहुत तेज हो गई थी कि कहीं भाभी घर पर न बता दें? भाभी ने मेरा […]

फ़ौजी फ़ौज़ में, हम मौज़ में-1

मेरा नाम कबीर है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो माफ़ कर देना। मेरी उम्र 20 साल है, कद 5’7′ है, वजन 68 किलो, जिम जाने वाला अच्छा दिखता हूँ। मैं जब 18 साल का था तब मुझे पता चला कि कालबोय क्या […]

कहा तो आपने !

On 2009-04-11 Category: चुदाई की कहानी Tags:

मेरा नाम आदित्य कश्यप है और मेरी उम्र 19 साल की है। मैं देहरादून में रहता हूँ। आज मैं अपनी जीवन की पहली कहानी आप लोगों को बताने जा रहा हूँ। वैसे तो मैंने बहुत बार कोशिश की कि मैं भी अपनी कहानी अन्तर्वासना पर भेजूँ लेकिन कभी हिम्मत नहीं हुई। लेकिन मेरे कुछ दोस्तों […]

Scroll To Top